अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जिम्बाब्वे की बर्खास्तगी का विरोध करेगा भारत

भारत अगले सप्ताह होने वाली आईसीसी की सालाना बैठक में जिम्बाब्वे की अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद से बर्खास्तगी का विरोध करेगा। एक सप्ताह चलने वाले यह बैठक लंदन में होगी। भारत के इस कदम से उसे टेस्ट खेलने वाले देशों दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड का विरोध झेलना पड़ सकता है। ‘डेली टेलीग्राफ’ ने एक बीसीसीआई अधिकारी के हवाले से कहा है कि भारतीय क्रिकेट बोर्ड अब भी जिम्बाब्वे की तरफदारी कर रहा है। इतना ही नहीं वह आईसीसी के जिम्बाब्वे को बाहर किए जाने वाले किसी भी प्रस्ताव का विरोध करने के मूड में है। इससे पहले क्रिकेट साउथ अफ्रीका ने सबसे पहले जिम्बाब्वे के साथ अपने द्विपक्षीय संधि को खत्म किया। इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) ने अगले साल होने वाले जिम्बाब्वे के प्रस्तावित दौरे पर न जाने का फैसला कर यह संकेत दे दिया कि वह भी जिम्बाब्वे के साथ कोई क्रिकेटीय संबंध नहीं रखना चाहता। ईसीबी जिम्बाब्वे का वनडे स्टेटस खत्म कराना चाहता है। इससे जिम्बाब्वे अगले साल इंग्लैंड में होने वाले विश्व 20-20 चैंपियनशिप में हिस्सा लेने से वंचित हो जाएगा। ईसीबी को डर है कि जिम्बाब्वे की उपस्थिति से टूर्नामेंट का आयोजन मुश्किल हो सकता है। ब्रिटिश गवर्नमेंट जिम्बाब्वे के क्रिकेटरों को किसी भी हालत में वीजा नहीं देगी। ऐसी स्थिति में आईसीसी इस टूर्नामेंट का आयोजन कहीं वहां न कराए जाने का दबाव डाल सकती है। फिर इसका आयोजन बैक-अप वेन्यू कनाडा में कराया जा सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जिम्बाब्वे की बर्खास्तगी का विरोध करेगा भारत