DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विवि में चंदे पर बवाल, कुलपति आवास पर पथराव

मुजफ्फरपुर, कार्यालय संवाददाता। बीआरए बिहार विश्वविद्यालय में बुधवार को सरस्वती पूजा के नाम पर जबरन चंदा वसूलने वालों पर पुलिस के सख्ती करने पर छात्रों ने बवाल कर दिया। टाउन डीएसपी उपेन्द्र प्रसाद पर कॉमर्स विभागाध्यक्ष डॉ. शविजी सिंह के साथ बदसलूकी का आरोप लगाते हुए छात्रों ने हंगामा करते हुए विवि से अधिकारियों व कर्मचारियों को उनके कमरों से बाहर कर कामकाज पूरी तरह ठप करा दिया।

इस बीच करीब 100 छात्रों ने विश्वविद्यालय थाने का घेराव किया। तभी कुछ छात्रों ने कुलपति आवास पर भी पथराव किया। इस दौरान उपद्रवी छात्रों ने एक छात्र की जमकर पिटाई कर दी और पुलिस के खिलाफ करीब दो घंटे तक नारेबाजी करते हुए हंगामा करते रहे।

कुलपति डॉ. रवि वर्मा ने पुलिस अधिकारियों व छात्रों से बात कर मामाला किसी तरह शांत कराया। पश्चिम चंपारण के छात्र मिंटू कुमार की शिकायत पर विवि थाने में जरबन चंदा वसलूने वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है।

विवि में कई दिनों से जबरन चंदा वसूलने वालों का आतंक है। मंगलवार को अलग-अलग ग्रुप एलएस कॉलेज व विवि परिसर में चंदा उगाही कर रहे थे। एक ग्रुप पीजी नामांकन के लिए फॉर्म बिक्री के काउंटर पर खड़े छात्रों से चंदे के नाम पर पैसे वसूल रहा था।

दूसरा ग्रुप पीजी केमेस्ट्री विभाग के सामने वाली सड़क पर आते-जाते लोगों से वसूली कर रहा था। इसकी जानकारी मिलते ही दलबल के साथ टाउन डीएसपी उपेन्द्र प्रसाद व एसडीओ पूर्वी सुनील कुमार के पहुंचते ही छात्र इधर-उधर भागने लगे। चंदा वसलूने वाले कुछ छात्र कॉमर्स विभाग में जा घुसे। पीछा करते हुए डीएसपी वहीं पहुंच गये। इस दौरान पीजी विभागाध्यक्ष डॉ. सिंह से डीएसपी ने चंदा लेने वालों को बाहर निकालने की बात कही तो विभागाध्यक्ष ने उनकी पहचान से इंकार कर दिया।

इस पर उनके बीच विवाद हो गया। डीएसपी के वहां से निकलते ही छात्रों का हुजूम विभागाध्यक्ष के समर्थन में उतर पड़ा। छात्रों ने पुलिस के खिलाफ हल्ला बोल दिया। फिर अधिकारियों व कर्मचारियों को बाहर कर विवि को बंद करा दिया और कुलपति आवास पहुंचे छात्रों ने दोबारा बवाल शुरू दिया। हंगामा कर रहे छात्रों में से कुछ कुलपति आवास पर पथराव करने लगे। हालांकि उन्हें किसी तरह से समझा-बुझाकर शांत कराया गया। बयान‘विवि में चंदा वसूली के खिलाफ पुलिस अभियान चला रही थी।

इस दौरान कुछ छात्र कॉमर्स विभाग में जा छिपे। विभागाध्यक्ष से जब पूछा गया तो वे उलटे पुलिस पर आरोप लगाने लगे। इसके बाद छात्रों ने हंगामा शुरू कर दिया। इस संबंध में कानून संगत कार्रवाई की जाएगी। ’-उपेन्द्र प्रसाद, टाउन डीएसपी‘मैं विभाग के बाहर बैठा था। मेरे चपरासी को डीएसपी ने कहा कि यही चंदा वसूल रहा था इसे पकड़ लो। जब मैंने इसका विरोध किया तो डीएसपी अपशब्दों का प्रयोग करने लगे। मुझ पर एफआईआर की बात करने लगे।

मैंने तो किसी छात्र को कुछ कहा भी नहीं है। डीएसपी का शिक्षकों प्रति बहुत बुरा विचार है। मैंने कुलपति से सारी बातों को बता दिया है। ’-डॉ. शविजी सिंह, विभागाध्यक्ष, कॉमर्स विभागविरोध करने पर एक छात्र की जमकर की पिटाईहंगामे के दौरान उपद्रवी छात्रों ने एक छात्र की जमकर पिटाई कर दी। थाने के सामने उपद्रवियों ने उसे बेरहमी से घूसों से मारा। हंगामे के दौरान उस छात्र ने चंदा वसूली करने वालों का विरोध किया कि इनके पास और कोई काम नहीं है।

चंदा वसूलना ही इनका मकसद है। इसके बाद उपद्रवी छात्रों ने उस पर हमला बोल दिया। इस दौरान पुलिस के कई जवान उसे पिटते देखते रहे। उसकी पिटाई के वक्त टाउन डीएसपी कुलपति आवास के अंदर विवि के अधिकारियों से बात कर रहे थे। पिटाई से लहूलुहान छात्र ने माफी मांग किसी तरह अपने को बचाया। आसपास खड़े कुछ लोगों ने भी बीच-बचाव किया। इसके बाद उपद्रवी छात्रों ने उस छात्र को वहां से भगा दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विवि में चंदे पर बवाल, कुलपति आवास पर पथराव