DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीएम ने कहा, इंतजार करो, होगी कार्रवाई

वरिष्ठ संवाददाता अलीगढ़। डीएम के साथ कोल विधायक जमीरुल्लाह के झगड़े पर सैफई में बुधवार सुबह राजदरबार लगा। प्रधानों ने अपने साथ हुए व्यवहार की बात मुख्यमंत्री को बताई, गवाह के तौर पर विधायक ने अपने साथ हुए बर्ताव का दुखड़ा रोया। सीएम ने विधायक से कहा इंतजार करो, कार्रवाई होगी। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने विधायक को कहा कि ऐसे अधिकारियों की सूची तैयार की जा रही है जो सही से काम नहीं कर रहे हैं।

इन्हें जल्द ही सबक िसखाया जाएगा। इससे पहले विधायक समेत करीब 200 प्रधान मंगलवार रात को ही सैफई पहुंच गए थे लेकिन उनकी मुलाकात मुख्यमंत्री से नहीं हो पाई थी। हालांकि सपा महासचिव रामगोपाल यादव से मिलकर उन्होंने अपना पक्ष रख दिया था। सीएम के कहने पर सभी के रहने,खाने का इंतजाम मैनपुरी में किया गया था और अगले दिन सुबह दस बजे सैफई में मिलने का समय तय किया था। बुधवार सुबह तय समय पर अखिलेश यादव से विधायक और प्रधानों की मुलाकात हुई।

विधायक ने िसलिसलेवार अपने और प्रधानों के साथ हुए बर्ताव के बारे में बताया। मौके पर वे प्रधान भी मौजूद थे, जो डीएम से साथ हुए झगड़े में विधायक के साथ मौजूद थे। इन्होंने भी अपनी आपबीती मुख्यमंत्री को सुनाई। मुख्यमंत्री ने पूरी बात सुनने के बाद विधायक को कार्रवाई का भरोसा िदलाया। हालांकि इसके बाद भी विधायक ने सिंचाई और पीडब्ल्यूडी मंत्री शिवपाल यादव से मिलकर अपनी बात रखी। उन्होंने भी अधिकारी के बर्ताव को अनुिचत बताया और कार्रवाई का भरोसा िदलाया।

मुलायम से नहीं मिल सके विधायकसपा विधायक इस मामले में सपा मुिखया मुलायम सिंह यादव से मिलना चाहते थे, लेकिन उनकी मुलाकात नहीं हो सकी। कोल विधायक ने बताया कि मुलायम सिंह यादव दूर दराज से आए कई मेहमानों के साथ व्यस्त थे इसलिए उनसे मुलाकात नहीं हो सकी। लेकिन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, सपा महासचिव रामगोपाल यादव, सिंचाई मंत्री शिवपाल यादव तक बात पहुंच चुकी है। सपा मुिखया तक भी बात पहुंचा दी गई है। विधायक बोले, संगठन को कौन पूछता है कोल विधायक के साथ बर्ताव पर संगठन की चुप्पी को लेकर तमाम सवाल खडेम् हो गए हैं।

पार्टी के विधायक के साथ हुए व्यवहार पर संगठन ने कोई प्रितक्रिया नहीं दी है। कोल विधायक जमीरुल्लाह का कहना है कि इस मामले पर संगठन के पदािधकािरयों की राय उनकी िनजी हो सकती है। विधायक ने यह भी कहा कि संगठन को कौन पूछता है। कितने लोग संगठन के साथ हैं। पदािधकािरयों के रवैये से कार्यकर्ताओं में िनराशा अधिकारियों पर कार्रवाई न होने से कार्यकर्ताओं में िनराशा छाई हुई है। कार्यकर्ताओं का कहना है कि बीते महीनों में कार्यकर्ताओं के अपमान से सपाई परेशान हैं।

सब पार्टी की नीितयों का प्रचार छोड़कर घर पर बैठ गए हैं। एक कार्यकर्ता ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि अगर ऐसा ही रहा तो लोकसभा चुनाव में कार्यकर्ता पूरे जोश के साथ पार्टी के लिए खड़ा नहीं होगा। इससे पार्टी को नुकसान उठाना पडेम्गा। मुख्यमंत्री को चाहिए कि वह सपाईयों का अपमान करने वाले अधिकारियों को सबक िसखाएं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सीएम ने कहा, इंतजार करो, होगी कार्रवाई