DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मिलावट पर खाद्य सुरक्षा अधिकारी की जमकर क्लास

 हाथरस। कार्यालय संवाददाता। जिले में मिलावट का धंधा जोरों पर है। खाने पीने की तमाम चीजों को बिना मिलावट के नहीं बेचा जा रहा है। दूध, दही, मसाले, मिठाई सब कुछ मिलावटी खाने को मिल रहा है। जिस विभाग पर मिलावट को रोकने का जिम्मा है, उसके अधिकारी सोए हुए हैं। ये शुक्र की बात है कि जिले के प्रशासनिक अफसरों को लोगों की जरा बहुत चिंता है।

ऐसे में पिछले दिनों डीएम, एडीएम ने खाद्य पदार्थ के ठिकानों पर चेकिंग की थी। इसके बावजूद खाद्य सुरक्षा से जुड़े महकमे के अधिकारियों को लोगों को स्वास्थ्य की चिंता नहीं। ऐसे में ये बात साफ है कि मिलावटखोरों से जेब गरम होने के बाद ये अधिकारी मिलावटी वस्तुओं की ओर देखते ही नहीं। शायद इस गड़बड़झाले और लापरवाही की खबर जिलाधिकारी तक भी पहुंच गई है। तभी तो उन्होंने बुधवार को एक शिकायत के बाद खाद्य सुरक्षा अधिकारी एमपी सिंह की जमकर क्लास लगाई।

तहसील दिवस केदौरान शिकायत मिलने पर डीएम ने फटकार लगाते हुए जिले भर के अफसरों के सामने खाद्य सुरक्षा अधिकारी को यहां तक कह दिया कि उन्हें सब पता है कि कहां मिलावट होती है, इसके बावजूद कार्यवाही नहीं की जाती है। एमपी सिंह ने सफाई देने की कोशशि की तो डीएम का चेहरा गुस्से से तमतमा गया। उन्होंने कहा कि खाद्य सुरक्षा अधिकारी ही लाइसेंस देते हैं, लिहाजा उन्हें पता होता है कौन सी चीज को कहां बनाया जा रहा है।

डीएम ने स्पष्ट चेतावनी दी कि यदि मिलावट नहीं रुकी तो उन्हें जेल भेजने से भी नहीं चूका जाएगा। डीएम का रुख देखकर खाद्य सुरक्षा अधिकारी सन्न रह गए। इसके बाद भी डीएम का गुस्सा नहीं थमा। उन्होंने पास बैठे एक पुलिस इंस्पेक्टर से कहा कि खाद्य सुरक्षा अधिकारी को ले जाएं। मिलावट के ठिकानों पर छापेमारी की जाए। इन्हें पहले से ठिकाने की जानकारी दिए बिना छापेमारी की जाए। डीएम ने गुस्से में ये भी कहा कि जहां छापेमारी की जाए यदि वहां मिलावट पाई जाती है तो खाद्य सुरक्षा अधिकारी को भी पार्टी बनाया जाए।

डीएम का गुस्सा देखकर अन्य अफसर भी सकते में आ गए।

गांव चुरसैन में लिए तीन नमूने

 डीएम से डांट खाने के बाद पुलिस के साथ खाद्य सुरक्षा अधिकारी एमपी सिंह लाढ़पुर क्षेत्र के गांव चुरसैन पहुंचे। यहां एक प्रतिष्ठान पर पहुंचने के बाद तीन नमूने लिए गए। एमपी सिंह ने बताया कि घी, क्रीम व मक्खन के नमूने लिए गए हैं। यहां ये बात काबिलेगौर है कि शहर में कई ठिकाने ऐसे हैं जहां दूध, दही से लेकर मसालों में मिलावट का धंधा जोरों पर है, इसके बावजूद शहर छोड़कर गांव में नमूने लिए गए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मिलावट पर खाद्य सुरक्षा अधिकारी की जमकर क्लास