DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चंद पैसों की खातिर पार कर दी जरायम की हद

लखीमपुर-खीरी। हिन्दुस्तान संवाद

बांकेगंज इलाके में बुधवार की शाम लूटपाट के दौरान मारा गया इरशाद पंचर जोड़ने का काम करता था और उसका साथी सत्यपाल मजदूरी। जाहिर है गरीब और रोज खाने कमाने वाले इन लोगों के पास न तो लाखों रुपए थे और न ही सोना चांदी। लेकिन बेखौफ बदमाशों ने चंद पैसों की खातिर इन दोनों की हत्या कर दी।

लूटपाट तो महज एक बहाना था। बांकेगंज इलाके में इस वारदात को अंजाम देकर बदमाशों ने पुलिस को खुली चुनौती दे दी है। जख्मी हुआ जसकरन कुकरा में समिति एकाउंटेंट है, उसके पास से भी बदमाश महज एक हजार रुपए लूट सके। बुधवार की शाम बांकेगंज से काम निपटाकर साइकिलों से घर लौट रहे इरशाद, सत्यपाल और जसकरन को इस बात का अंदाजा नहीं था कि उनके जाने पहचाने रास्ते पर एक बड़ा खतरा मौजूद है। दिन भर काम करने के बाद शाम को जब तीनों अपने घरों की ओर चले तो सर्दी के इस मौसम में सफर काटने के लिए तीनों बातें करते जा रहे थे।

संसारपुर और मैलानी के बीच जंगली इलाके में जैसे ही यह लोग पहुंचे कि गन्ने के खेत से निकले छह नकाबपोश बदमाशों ने घेर लिया और लूटपाट करने लगे। मजदूरी पेशा इन लोगों के पास दिन भर की कमाई के महज चंद रुपए ही थे। परिवार का पेटभरने के लिए कमाए गए इन पैसों को बदमाशों को देने से ऐतराज करते हुए लूटपाट का विरोध शुरू कर दिया। बदमाशों ने भी सभी हदें पार करते हुए तीनों पर चाकुओं से ताबड़तोड़ प्रहार करना शुरू कर दिया।

बदमाश तीनों को मरा समझकर चले गए थे, लेकिन समिति एकाउंटेंट जसकरन की सांसें बाकी थी। इस बीच उधर से निकले कुछ राहगीरों ने जख्मी हालत में पड़े जसकरन को देख सूचना पुलिस को दी। मौके पर पहुंचे चौकी इंचार्ज ने घायल को अस्पताल पहुंचाया। दो घंटे बाद भी नहीं पहुंचे जिम्मेदार अफसरबांकेगंज के पास लूटपाट के दौरान दो युवकों की हत्या करीब छह बजे की बताई जाती है, लेकिन घटनास्थल पर जिले के जिम्मेदार अफसर दो घंटे बाद भी नहीं पहुंचे।

सिर्फ इलाके की चौकी के प्रभारी ही मौका मुआयना करने गए। हालांकि वारदात के कुछ देर बाद ही मैलानी थानाध्यक्ष और सीओ गोला को घटना की जानकारी दे दी गई थी, पर दूरी का बहाना बताकर दोनों ही जिम्मेदार अफसर दो घंटे बाद भी वहां नहीं पहुंचे। नए साल में रोज एक वारदातनए साल की शुरुआत होते ही बदमाशों ने खीरी पुलिस को अपने दुस्साहस से सलामी देनी शुरू कर दी थी। पहले दिन ही एक लड़की से गैंगरेप और फिर हत्या।

इसके बाद ओयल में एक बुजुर्ग की गला काटकर हत्या कर दी गई। इसके बाद फरधान इलाके में चाचा भतीजे की गोली मारकर हत्या कर दी गई। ग्रामीण इलाकों में हुई इन वारदातों को लोग भूल भी नहीं पाए थे कि शहर में सरेशाम डकैती पड़ गई। पुलिस इस वारदात में कोई सुराग नहीं लगा सकी थी कि बड़ी घटना धौरहरा में हो गई। यहां एक सर्राफ के घर घुसे बदमाशों ने उसके बेटे को लूट का विरोध करने पर गोली मारकर हत्या कर दी।

पुलिस से पहले पहुंच गए विधायकलूटपाट के दौरान दो की हत्या की सूचना के बाद पुलिस के जिम्मेदार अधिकारी तो मौके पर नहीं पहुंचे लेकिन विधायक रोमी साहनी मौके पर पहुंच गए। उन्होंने इस वारदात को पुलिस की नाकामी बताया है। उन्होंने कहा कि जब से प्रदेश में सपा की सरकार बनी है तब से बदमाशों का आतंक चरम पर है। उन्होंने बताया कि इस वारदात से पूरे इलाके में सनसनी फैल गई है। घटना की सूचना जब क्षेत्रीय विधायक रोमी साहनी को मिली तो वह भी पहुंच गए।

खास बात यह थी कि विधायक के पहुंचने तक पुलिस का कोई जिम्मेदार अफसर नहीं पहुंचा था। ‘घटना की सूचना मिली है। मौके पर पहुंच रहे हैं। वहां जाकर ही साफ हो सकेगा कि वारदात किसने की और इसकी क्या वजह रही। जल्द ही बदमाशों को गिरफ्तार किया जाएगा। ’टीपी सिंह, सीओ गोला।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चंद पैसों की खातिर पार कर दी जरायम की हद