DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इकलौते पुत्र की मौत से बदहवास रही घायल मां

फतेहपुर। हिन्दुस्तान संवाद

शहर के आबूनगर मोहल्ले में कच्चे घर की छत ढहने से हुई मासूम की मौत से जहां उसकी मां का रो-रोकर बुरा हाल रहा। वहीं बच्चों की मौत से उसके दादहिाल में भी सूचना पहुंचते ही रोना बिलखना शुरु हो गया। मोहल्ले की उपस्थित महिलाओं के मुंह से यही निकल रहा था कि उसका ननिहाल आना अभशिाप हो गया। कोतवाली क्षेत्र के आबूनगर मोहल्ले के ककरहा निवासी स्व. शविकुमार की पत्नी श्रीमती मकर संक्रांति त्यौहार को लेकर अपनी दोनों पुत्रियों को घर बुलाया था।

अपनी मां के साथ त्यौहार की खुशियां मनाने के लिए उसकी बड़ी पुत्री कृष्णा और छोटी पुत्री रंजना अपने डेढ वर्षीय पुत्र नैतिक को साथ लेकर चार दिन पूर्व अपनी ससुराल कानपुर देहात के नौबादपुर से आई थी। उसे तनिक भी गुमान न था कि जिस पुत्र के साथ मायके जा रही हैं वह वापस आने में साथ नहीं देगा। नैतिक का ननिहाल आना एक तरह से अभशिाप बन कर रह गया। मृतक मासूम अपनी मां का इकलौता पुत्र था।

उसके माता-पिता के साथ साथ नानी-दादी भी उसे जरुरत से ज्यादा दुलार करते थे। हादसे में जहां उसकी मौत हो गई वहीं उसकी मां भी गम्भीर रूप से घायल हुई है। बेटे के खोने के गम में वह अपना दर्द भूल गई और बेटे को लेकर बार-बार रोते रोते बदहवास हो जाती रही। उधर, नैतिक के पिता सर्वेश कुमार को सूचना मिलते ही उसके पैरों के नीचे से भी जमीन खिसक गई और अपने पूरे परिवार के साथ मौके पर पहुंचे।

दोनों परिवारों के सदस्यों में कोहराम मच गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इकलौते पुत्र की मौत से बदहवास रही घायल मां