DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महाकुंभ की स्थापना

राणी सती मंदिर लेन स्थित श्रीलक्ष्मी वेंकटेश्वर मंदिर का तीन दिनी प्रथम वार्षिकोत्सव शुक्रवार को महाकुंभ स्थापना के साथ शुरू हो गया। शाम छह बजे पहले आचार्य वर्णम् और यजमानों का संकल्प हुआ। इसके बाद विधि-विधान से महाकुंभ की स्थापना की गयी। बाद में गोष्ठी, प्रसाद वितरण और शयन आरती के साथ पहले दिन का कार्यक्रम संपन्न हुआ। मंदिर संचालन समिति के अध्यक्ष स्वामी अनिरुद्धाचार्य जी, कांचीपुरम् के रंगराज भट्टर, वत्स भट्टर, कनन भट्टर, लक्ष्मी नरसिंह भट्टर और सोमयन स्वामी ने इसमें मुख्य रूप से भागीदारी निभाई। आर नारसरिया ने बताया कि दूसर दिन शनिवार को सुबह आठ बजे सुदर्शन होम से कार्यक्रम की शुरुआत होगी। इसके बाद दोपहर 12 बजे तक पूर्णाहूति और गोष्ठी का कार्यक्रम चलेगा। फिर उपस्थित भक्तों के बीच प्रसाद का वितरण होगा। उन्होंने बताया कि अपराह्न् तीन बजे श्रीराणी सती मंदिर से शोभायात्रा निकाली जायेगी। रविवार को अंतिम दिन कल्याणोत्सव (भगवान का विवाह) धूमधाम से मनेगा। नारसरिया ने श्रद्धालुओं से इसमें भाग लेने का आग्रह किया है।ड्ढr नागा बाबा मठ में भंडार का आयोजनड्ढr रांची। नागा बाबा मठ, मैकी रोड में शुक्रवार को हाारों लोगों ने प्रसाद पाया। यहां ब्रह्मलीन श्री 108 महंथ अमरदास जी की तीसरी पुण्यतिथि पर भंडारे का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की शुरुआत सुबह आठ बजे श्रीमद्भागवत गीता पाठ से हुई। इसके बाद हवन, यज्ञ, कीर्तन और प्रवचन का कार्यक्रम चला। वर्तमान महंथ छोटू राम ने उपस्थित श्रद्धालुओं से कहा कि अत्यंत श्रेष्ठ कर्म करने पर ही मानव शरीर की प्राप्ति होती है। यह शरीर दुर्लभ है। अत: आप इसका सदुपयोग करं। बाद में साधु और ब्राह्मणों ने प्रसाद पाया। वरिष्ठ पत्रकार बलबीर दत्त ने आयोजन में मुख्य रूप से अपनी भागीदारी निभाई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: महाकुंभ की स्थापना