DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुख्यमंत्री ने कर ली है हकमारी : ददई

धनबाद मुख्य संवाददाता। ग्रामीण विकास मंत्री चंद्रशेखर दुबे उर्फ ददई दुबे ने धनबाद में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मुख्यमंत्री ने हकमारी कर ली है। ग्रामीण विकास विभाग मेरे पास है और सीएम ने राजस्व विभाग अपने पास रखा है। यह ठीक नहीं है। पहले ऐसा नहीं होता था।

परंपरा के अनुसार ग्रामीण विकास और राजस्व विभाग के मंत्री एक ही होते हैं। मेरा हक लूटने वाले सीएम कभी खुश नहीं रह सकते। दोनों विभाग अलग-अलग रहने से परेशानी भी होती थी। यही कारण है कि राज्य में बीडीओ के 94 पद खाली रह गए हैं। पहले एक ही मंत्री के पास दोनों विभाग होने से सीओ को बीडीओ का अतिरिक्त प्रभार देकर काम चलाया जाता था। कई बीडीओ की सेवा भी कार्मिक विभाग को सौंप दी गई है।

बीडीओ की कमी से विकास प्रभावित हो रहा है। तबादले में कोई गोलमाल नहींमंत्री ददई दुबे ने तबादला में लेन-देन के आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया। कहा कि कोई गड़बड़ी नहीं हुई है। एक ही स्थान पर तीन साल से जमे लोगों का ही तबादला किया गया है। कुछ मामलों में आरोप के कारण समय से पहले बीडीओ का तबादला किया गया है। कुछ बीडीओ ने स्वेच्छा से तबादला मांगा है। उन्होंने फिर कहा कि तबादले में मंत्री से लेकर विधायक तक की बात मैंने सुनी है।

पूर्व मुख्यमंत्रियों को सता रहा है हार का डरमंत्री ददई दुबे ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्रियों को हार का डर सता रहा है। अर्जुन मुंडा और बाबूलाल मरांडी ने जनता का वशि्वास खो दिया है। दोनों जानते हैं कि नहीं जीत सकेंगे। इसी कारण लोकसभा का चुनाव लड़ने से डर रहे हैं। बाबूलाल मरांडी को तो आदविासियों ने भी नकार दिया है। यही कारण है कि वह सुरक्षित सीट की जगह सामान्य सीट से चुनाव लड़ते रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुख्यमंत्री ने कर ली है हकमारी : ददई