DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पीड़िताओं ने खोली जुबान, ‘नेताजी’ की करतूत का हुआ खुलासा

कार्यालय संवाददाता पटना। पीड़ित लड़कियों ने जब पूछताछ के दौरान पुलिस को सारी सच्चाई बताई तो घटना का पता चला। उससे पहले कुछ और ही बात सामने आ रही थी। पटना पुलिस की विशेष टीम हर पहलू पर पीड़िता से पूछताछ करने में जुटी थी। परत दर परत जब सच्चाई सामने आयी तो ‘नेता जी’ और उनके दोस्तों पर पुलिस का शिकंजा कसता गया। पल भर ही मामला गैंगरेप में बदल गया।

पीड़ित नाबालिगों ने बताया कि उन्हें छह तारीख की रात मोतिहारी से पटना लाया गया था। पूरी साजशि डिप्टी मेयर ने रची थी। पुलिस ने दोनों नाबालिगों की मेडिकल जांच भी करायी है। कैसे मिला कमरा होगी जांच डिप्टी मेयर ने पांच जनवरी की रात मारवाड़ी आवास गृह में कमरा बुक कराया था। उसने पहचान पत्र के रूप में अपना पैन कार्ड दिया था। दो लोग लड़कियों के साथ एक ही कमरे में रुके। सवाल यह है कि आखिर उन्होंने मारवाड़ी आवास प्रबंधन को लड़कियों का परिचय किस रूप में दिया।

लड़कियों का परिचय दिया भी गया या नहीं? अगर नहीं दिया गया तो लड़कियां कमरे तक कैसे पहुंची। किसी ने डिप्टी मेयर और उसके साथी को रोक-टोक की या नहीं। एसएसपी मनु महाराज के मुताबिक होटल सम्राट इंटरनेशनल और मारवाड़ी आवास गृह के रजिस्टर व अन्य कागजात की जांच की जा रही है।

अगर कोई खामी मिली तो तुरंत दोनों पर एफआईआर दर्ज की जाएगी। इस बाबत मारवाड़ी आवास गृह के मैनेजर ओपी शर्मा ने बताया कि उन्होंने सही कागजात लेकर डिप्टी मैनेजर को ठहरने के लिए कमरा दिया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पीड़िताओं ने खोली जुबान, ‘नेताजी’ की करतूत का हुआ खुलासा