DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शेल्टर बनी दुकानें, बस का इंतजार सड़क पर

कार्यालय संवाददाता/ सुधीर कुमार पटना। शहर के गिने-चुने सड़कों पर बस शेल्टर हैं। बावजूद इसके यहां बस और ऑटो नहीं रुकते। कारण कि शेल्टर में दुकानें खुल गई हैं। कारगिल चौक के पास कपड़े तो शिवपुरी में सब्जी बाजार ने कब्जा जमा लिया है। यहां से दर्जनों वरीय अधिकारी गुजरते हैं, लेकिन उन्हें अतिक्रमण नहीं दिखता है। अतिक्रमण के कारण सवारी सड़क पर बस का इंतजार करते हैं।

स्थान : कारगिल चौक यहां बस शेल्टर में फोल्डिंग पर शर्ट की दुकान है। सस्ता माल देखकर खरीददारों की भीड़ उमड़ पड़ती है। एसएसपी ऑफिस के बगल के शेल्टर पर भी कब्जा है। यहां पुलिस भी तैनात रहती है, लेकिन सिर्फ सड़क पर रुकने वाली गाड़ियों को आगे बढ़वाने के लिए। ऐसे में बस बीच सड़क पर ही सवारी उठती है। यहां 10 साल से दुकान लग रही है। स्थान : कुर्जी मोड़पांच साल पहले यहां शेल्टर था।

अतिक्रमण हटाने के दौरान शेल्टर को भी हटा दिया गया। जगह खाली होते ही उसमें मछली बाजार खुल गया। यहां सुबह-शाम मछली का बाजार लगता है। मछली के रैक यहां दिन भर देखे जा सकते हैं। कुर्जी मोड़ तिराहे पर ही बस और ऑटो रुकते हैं। पॉलिटेक्निक मोड़ के पास एक बस शेल्टर है। इसमें ऑटो लगाया जाता है।

स्थान : शविपुरी, बोरिंग रोड यहां के शेल्टर में पांच-छह सब्जी विक्रेता ने अपनी दुकान बना ली है। बोरिंग रोड जैसे व्यस्त सड़क पर सवारी के लिए बने शेल्टर में भी दुकानें खुली हैं।

इन्हीं दुकानों से कई अधिकारी भी सब्जी खरीदते हैं, लेकिन उन्हें अतिक्रमण नहीं दिखता है। स्थानीय लोगों का कहना है कि यहां 10-12 साल से सब्जी दुकान लग रही हैं। बोरिंग रोड में इसके बाद एएन कॉलेज और पाटलिपुत्रा गोलंबर के पास शेल्टर हैं, लेकिन वीरान रहता है। बातचीत- बस शेल्टर में 10 साल से कपड़े की दुकान लग रही है। हल्ला गाड़ी आती है तो दुकान को समेट ले जाती है। दुकान के कारण सवारी इधर-उधर भागते फिरती है।

- राकेश कुमार, दुकानदार, गांधी मैदान- पांच साल पहले यहां बस शेल्टर था। बसें भी रुकती थीं। अतिक्रमण हटाने के दौरान शेल्टर को भी हटा दिया गया। उसके बाद यहां मछली का बाजार लगने लगा। - मो. मोबिन, कुर्जी मोड़बॉक्सनियत दूरी पर नहीं हैं बस शेल्टरशहर की अधिकतर सड़कों में शेल्टर नहीं हैं। जहां है उसकी दूरी तय नहीं है। गांधी मैदान से कुर्जी रोड रूट पर गांधी मैदान, गोलघर के बाद कुर्जी मोड़ तक कोई शेल्टर नहीं है। बोरिंग रोड में पॉलिटेक्निक मोड़, एएन कॉलेज और शविपुरी में शेल्टर है।

बेली रोड में इनकम टैक्स से लेकर सगुना मोड़ तक शेल्टर है। इसमें राजाबाजार के बाद रुकनपुरा तक के शेल्टर में दुकानें खुल चुकी हैं। अशोक राज पथ के शेल्टर में भी कब्जा है। वहीं कंकड़बाग से लेकर नाला रोड तक किसी भी सड़क पर शेल्टर नहीं बना है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शेल्टर बनी दुकानें, बस का इंतजार सड़क पर