DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

15 हजार संविदाकर्मियों को स्थायी करे सरकार

कार्यालय संवाददाता पटना। प्रदेश में करीब 15 हजार स्वास्थ्य कर्मचारी कांट्रैक्ट पर काम कर रहे हैं। सरकार इन्हें स्थायी नहीं कर रही है। कई जिलों में तो संविदाकर्मियों को नियमित वेतन भी नहीं दिया जा रहा है। सरकार ने संविदा पर बहाल कर्मियों को ठेका व्यवस्था के तहत वेतन भुगतान करने की जो व्यवस्था की है वह उनके लिए नुकसानदेह है। यह आरोप मंगलवार को पीएमसीएच के लेक्चर हाल में बिहार चिकित्सा एवं जन स्वास्थ्य कर्मचारी संघ की ओर से समस्या और समाधान विषय पर आयोजित सेमिनार में संगठन के महामंत्री वशि्वनाथ सिंह ने लगाया।

उन्होंने कहा कि संविदाकर्मियों की समस्याएं सरकार ने जल्द नहीं सुलझाईं तो 24 फरवरी को प्रदेश भर पर प्रदर्शन किया जाएगा। इसके बाद भी सरकार नहीं मानी तो हड़ताल की जाएगी। अरुण कुमार सिंह ने कहा कि समान काम के लिए समान वेतन मिलना चाहिए। ठेका और संविदा पर कार्यरत कर्मियों पर लगातार काम के घंटों को बढ़ाया जा रहा है जिससे उन्हें आर्थिक नुकसान होता है। इसके बाद संविदा कर्मियों के स्थायीकरण के लिए सरकार को ज्ञापन देने का भी निर्णय लिया गया है।

सेमिनार में राजकिशोर राय, शंकर साह, बैद्यनाथ झा, बालेश्वर प्रसाद सिंह, दयानंद सिंह, श्रीराम प्रसाद, सुरेश सिंह, सत्येन्द्र आदि मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:15 हजार संविदाकर्मियों को स्थायी करे सरकार