DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जदयू से तालमेल की पहल करेगी सीपीएम

पटना। हिन्दुस्तान ब्यूरो। मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने साफ कर दिया कि आगामी लोकसभा चुनाव वह क्षेत्रीय दलों के साथ मिलकर लड़ेगी। पार्टी का मानना है कि दिल्ली में भाजपा को सत्ता पर काबिज होने से रोकने के लिए ऐसा करना जरूरी है। बिहार में वह जदयू के साथ मिलकर नई राजनैतिक संभावनाओं की तलाश करेगी।

पार्टी पोलित ब्यूरो के सदस्य व बिहार मामलों के प्रभारी एस. रामचन्द्र पिल्लई और केन्द्रीय सचवि मंडल के सदस्य हन्नान मोल्ला ने मंगलवार को पत्रकारों के बीच इसका खुलासा किया। उन्होंने कहा कि बिहार में पिछले छह माह में काफी राजनीतिक परविर्तन हुए हैं। भाजपा से नीतीश कुमार का अलग होना एक महत्वपूर्ण घटना है। इस राजनीतिक परिदृश्य में उनके समर्थन से भाजपा को हराने में मदद मिलेगी। जदयू से वार्ता के लिए पार्टी पहल करेगी। लेकिन उनके साथ सीटों के तालमेल या किसी भी संभावना की तलाश वाम एकता बनाये रखते हुए की जाएगी।

वैसे भी कांग्रेस, एलजेपी और राजद के साथ आने के संकेत हैं। पार्टी का मानना है कि बिहार-यूपी में भाजपा को रोकना एक चुनौती है और इसे गैर राजग और गैर यूपीए एक नए विकल्प के साथ हासिल किया जा सकता है। वैसे भी बिहार में सभी वामपंथी दल एकजुट हो रहे हैं। यहां क्षेत्रीय दलों के सहयोग से नया विकल्प बखूबी दिया जा सकता है। नई पार्टी ‘आप’ का उभार सकारात्मक और स्वागत योग्य है। लेकिन जब तक वे नवउदारवादी आर्थिक नीति, सेक्यूलरवाद आदि विभिन्न मुद्दों पर अपनी नीति साफ नहीं करते, उनसे तालमेल की पहल नहीं की जाएगी।

माले के राज्य सरकार विरोधी रवैये की बाबत पूछे जाने पर श्री पिल्लई ने कहा कि माले से सभी मुद्दों पर गंभीर विचार-विमर्श किया जाएगा। देश के वर्तमान राजनैतिक परिदृश्य को देखते हुए ऐसा पूरा विश्वास है कि माले नेता वाम एकता बनाए रखेंगे। सभी वाम दलों में भी इस मुद्दे पर आम सहमति बनायी जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जदयू से तालमेल की पहल करेगी सीपीएम