DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

1 अप्रैल से बदल जाएंगे कई योजनाओं के नाम

पटना। हिन्दुस्तान ब्यूरो। केंद्र सरकार बिहार समेत अन्य राज्यों में चल रही कृषि से जुड़ी स्कीमों का पुनर्गठन कर रही है। अब तक ये स्कीमें सपोर्ट टू स्टेट एक्सटेंशन प्रोग्राम फॉर एक्सटेंशन रिफार्म के तहत चल रहीं थी।

उनको अब नेशनल मशिन ऑन एक्सटेंशन एंड टेक्नोलॉजी से जोड़ा जाएगा। एनएमइटी (नेशनल मशिन ऑन एक्सटेंशन एंड टेक्नोलॉजी) के नाम से यह स्कीम इस वर्ष 1 अप्रैल से शुरू हो सकती है। पूरे देश में इसे एक साथ लागू किया जाएगा।

सूत्रों की मानें तो इस नई स्कीम में ही पिछले दिनों बंद हुई माइक्रो मोड स्कीम (कृषि यंत्रों पर अनुदान देने की योजना) भी बदले हुए स्वरूप में शामिल की जाएगी। नई स्कीम कैसे संचालित होगी, किसानों को इसका लाभ कैसे मिलेगा और किस मद से कितना बजट जारी होगा, इसकी गाइडलाइन अभी तैयार की जा रही है।

आत्मा और बामेती का नाम भी बदलेगाकृषि विशेषज्ञ अनिल झा के अनुसार एनएमइटी लांच होने के बाद राज्य में केंद्र के सहयोग से पहले से चल रही कुछ स्कीम के नाम बदल जाएंगे और एनएमइटी स्कीम का हिस्सा बन जाएंगे। पुरानी स्कीम जिनका पुनर्गठन करके नई स्कीम में शामिल किया जाएगा, उसमें एक्सटेंशन प्रोग्राम जैसे आत्मा (ट्रेनिंग और एक्सपोजर), बामेती, सेंट्रल सेक्टर स्कीम ऑन सीड्स और प्लांट प्रोटेक्शन एंड कॉरेंटाइन स्कीम शामिल हैं। राज्य में तैयारी पूरीकृषि विभाग के अफसरों के अनुसार राज्य में इस योजना को लागू करने के लिए शुरुआती स्तर पर काम चल रहा है।

एक अप्रैल से यदि योजना लागू हुई तो यहां क्रियान्वयन शुरू कर दिया जाएगा। केंद्र सरकार 1 अप्रैल से नेशनल मिशन ऑन एक्सटेंशन एंड टेक्नोलॉजी स्कीम लांच करने जा रही है। इसकी गाइडलाइन अभी तैयार नहीं है। जल्द ही यह काम पूरा कर लिया जाएगा। अशोक प्रसाद, सहायक निदेशक, सूचना, कृषि विभाग।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:1 अप्रैल से बदल जाएंगे कई योजनाओं के नाम