DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छात्र नेता शमीम हत्याकांड में आरोप गठन 15 को

मुजफ्फरपुर। हिन्दुस्तान प्रतिनिधि। जदयू के छात्र नेता शमीम खान हत्याकांड में जेल भेजे गए आरोपित वार्ड पार्षद संजय पासवान समेत अन्य आरोपितों के खिलाफ कोर्ट में ट्रायल चलाने की कवायद शुरू हो गयी है। जिला व सत्र न्यायालय के आदेश पर मामले को अपर जिला व सत्र न्यायालय (पांच) के कोर्ट में भेजा गया है।

कोर्ट में संजय के अलावा अनिल ओझा, बबनदेव, शिवेंदु, शंभू सिंह, रामकुमार साह व रोशन ओझा के खिलाफ भादवि की धारा 302, 120 बी एवं आर्म्स एक्ट के तहत ट्रायल चलेगा। कोर्ट ने आरोपितों पर आरोप गठन के लिए 15 जनवरी की तिथि मुकर्रर की है। फिलहाल अनिल ओझा फरार है। वहीं नाबालिग होने के कारण शिवेंदु का मामला किशोर न्याय बोर्ड में चल रहा है। मामले में विश्वविद्यालय थाना पुलिस ने 9 नवंबर को सीजेएम कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की थी।

चार्जशीट में पुलिस ने सभी सात आरोपितों को शमीम की हत्या के मामले में दोषी ठहराया था। चार्जशीट में चश्मदीद गवाह के रूप में शमीम खान के पिता अब्दुल रहमान खान, खबड़ा रोड के नीरज शर्मा, सकरा थाने के बखरी गांव निवासी उत्तम पांडेय, शमीम खान की पत्नी तबस्सुम परवीन और दरौली के अभय चौधरी को जांचकर्ता रामबालक यादव ने पेश किया है। पुलिस के मुताबिक पिछले वर्ष एक अगस्त को हत्या से पूर्व अनिल ओझा अपने सहयोगी बबन देव, शविेंदु, शंभू सिंह, रामकुमार साह, रोशन ओझा और संजय पासवान के साथ बैठकर विवि कम्युनिटी हॉल में शराब पी रहा था।

यह कम्युनिटी हॉल अनिल ओझा की पत्नी संगीता ओझा के नाम से आवंटित है। घर की ओर से शमीम खान अपनी बाइक पर बेटे के साथ आया, जिसे देखकर गार्ड शंभू सिंह की बंदूक लेकर अनिल ओझा, शिवेंदु और रामकुमार साह ने चाय दुकान के पास शमीम खान को घेर लिया। अनिल ओझा ने शमीम के गर्दन के पास बंदूक से गोली मारी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:छात्र नेता शमीम हत्याकांड में आरोप गठन 15 को