DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुख्यमंत्री के भरोसे पर टला सिखों का हरिद्वार कूच

 विकासनगर/कार्यालय संवाददाता

गुरुगोविंद सिंह जयंती पर हरिद्वार में हर की पैड़ी पर ज्ञानगोदड़ी की स्थापना की मांग को लेकर हरिद्वार कूच करने के लिए सिख समुदाय के सैकड़ो लोगों का जत्था मंगलवार को पांवटा में पहुंचा।

जत्थे को ग्यारह बजे उत्तराखंडी की सीमा से कूच करना था। इससे पहले ही अधिकारियों ने पांवटा गुरुद्वारे पर पहुंच कर समुदाय के लोगों से मामले को शांतिपूर्ण निपटने की बात की। सिखों की मांग पर अफसरों ने एक शिष्टमंडल की मुख्यमंत्री से वार्ता कराई। मुख्यमंत्री के 28 जनवरी तक समय मांगने पर मामला टल गया। वहीं कुल्हाल सीमा पर कूच को देखते हुए भारी पुलिस फोर्स तैनात रही। इस दौरान गाड़ियों की सघन चैकिंग की गई। गुरुगोविंद सिंह जयंती पर करीब ढाई सौ से अधिक सिख समुदाय के लोगों का जत्थे ने गुरुचरण सिंह बब्बर के नेतृत्व में पंजाब से हरिद्वार के लिए कू च किया।

सिख समुदाय के लोग हरिद्वार में हर की पैडी पर ज्ञान गोदडी स्थापित करने के लिए कूच करने के लिए मंगलवार को पांवटा पहुंच गए। लेकिन जत्थे को रोकने के लिए मंगलवार सुबह छह बजे से ही कुल्हाल चौकी पुलिस छावनी में तब्दील हो चुकी थी। एडीएम वित्त प्रताप शाह, एसडीएम एनएस डांगी, एसपी देहात मणिकांत मिश्र, एसपी सिटी नवनीत भुल्लर, सीओ विकासनगर एसके सिंह भी मौके पर पहुंच गए। इस दौरान एडीएम वित्त, एसपी देहात और एसपी सिटी ने सिख समुदाय के लोगों से पांवटा गुरुद्वारा में बैठक की।

इसमें अधिकारियों और पुलिस ने तय किया कि सिख समुदाय के पांच लोगों के शिष्टमंडल की सीएम से वार्ता कराई। इसके बाद एडीएम वित्त प्रताप शाह और एसपी देहात मणिकांत मिश्र के नेतृत्व में सिख समुदाय के पांच लोगों का शिष्टमंडल जिसमें गुरुचरण सिंह बब्बर, सुरेंद्र सिंह खालसा, बलवीर सिंह, सुब्बा सिंह ढिलोन और सत्येंद्र सिंह कहल को मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा से मिला। मुख्यमंत्री ने इस मामले में समुदाय के लोगों से 28 जनवरी तक का समय मांगा। इसके बाद हरिद्वार कूच टल गया।

देर शाम जत्था वापस लौट गया। बाक्स। 19 नवम्बर को भी किया था कूच का प्रयास विकासनगर। सिख समुदाय के लोग पिछले तीन वर्षो से ज्ञान गोदडी की स्थापना के लिए लगातार हरिद्वार कूच के लिए कुल्हाल पहुंच रहे हैं। बीते वर्ष 19 नवंबर को सिख समुदाय के लोगों ने हरिद्वार के लिए कूच किया। पुलिस प्रशासन के तमाम तामझाम के बाद समुदाय के लोगों का जत्था पुलिस को धता बताकर कुल्हाल सीमा को पार कर मटक-माजरी तिराहे तक पहुंच गया था।

पुलिस-प्रशासन ने जत्थे को वहां से आगे नहीं बढ़ने दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुख्यमंत्री के भरोसे पर टला सिखों का हरिद्वार कूच