DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रासलीला का मंचन कर लूटी वाहवाही

गोरखपुर। निज संवाददाता

गीता वाटिका में महाभाव निमग्न श्रीराधा बाबा जन्मोत्सव पर आयोजित रासलीला में वृन्दावन से पधारे कलाकारों ने रासलीला का मंचन किया। कलाकारों ने ‘भोली सी सुरतिया, मेरे मन को गई लोभाई..’, ‘प्रेम को पंथ हमारो सब जग से न्यारो..’ गीत पर नृत्य किया। तत्पश्चात लीला के तहत दामा पन्थ बिठ्ठल भगवान की लीला का मंचन किया। लीला में दिखाया गया कि मेधनीपुर नवाब केमंत्री दामा जी अकाल पढ़ने पर हिन्दू समुदाय के लोगों को अनाज वितरण कर देता है।

इसकी शिकायत मिया मुन्शी नवाब से कर देता है। नवाब दामा जी फांसी का हुक्म दे देते हैं। भक्त की रक्षा करने के लिए बिठ्ठल भगवान नवाब के घर पहुंचे और अनाज की सवाई कीमत अदा की। नवाब बिठ्ठल का स्वरूप देखकर मुग्ध हो जाता है। नवाब एक तरफ दामाजी को फांसी की सजा से मुक्त करता है और दूसरी तरफ भगवान के चरण में जगह मांगता है। इस लीला से ‘जात-पाछ पूछे न कोई हरी को भजे से हरी का होई’ का सन्देश मिलता है।

भगवान बिठ्ठल की भूमिका पुण्डरिक शर्मा, राधा की भूमिका कन्हैया शर्मा, नवाब की भूमिका मुकेश, मिया मुन्शी की भूमिका राजेन्द्र शर्मा, दामा जी की भूमिका चेतराम शर्मा ने निभाई। इसके पूर्व ब्रजधाम से पधारे कथाव्यास बिहारीदास महाराज ने राधाबाबा की कथा का रसपान भक्तों को कराया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रासलीला का मंचन कर लूटी वाहवाही