DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

10 दिन, तीन शिकार और फेल वन विभाग

मुरादाबाद। हिन्दुस्तान संवाद

बीते दस दिनों से मंडल में बाघ अपना मौंत का तांडव दिखा रहा है। तीन लोगों को मौंत के घाट उतार चुके बाघ के आगे वन विभाग के सभी इंतजाम खोखले साबित हो रहे हैं। विभाग की नाकामी के चलते लोगों में खौफ फैलता जा रहा है। वन विभाग के अधिकारियों ने पहले तो संसाधनों का रोना रोते हुए अपने आप को बचाने की कवायद किया।

लेकिन सोमवार को दुधवा से दो हाथियों के साथ ही जिम कार्बेट नेशनल पार्क से ट्रैकुलाइजर एक्सपर्ट आने के बाद यह उम्मीद जताई गई थी कि अब बाघ बहुत जल्द पिंजरे के अंदर होगा। लेकिन वन विभाग के उम्मीदों पर पानी फेरते हुए चौबीस घंटे के भीतर कांठ के मल्ली वाला गांव में बाघ ने एक किशोरी को मौंत के घाट उतारते हुए वन विभाग को खुली चुनौती दे डाली। अभी तक वन विभाग संसाधनो के नाम पर खुद को बचा रहा था,लेकिन इस घटना के बाद अब वन विभाग के अधिकारियों की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े हो गए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:10 दिन, तीन शिकार और फेल वन विभाग