DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत व पाकिस्तान की जेलें एक समान: नागेंद्र राय

पाकिस्तान की जेलों में बंद भारतीय कैदियों को रिहा करने के मामले में पाकिस्तान सरकार ने काफी सकारात्मक रुख अपनाया है। भारत सरकार के विदेश मंत्रालय द्वारा गठित पूर्व जजों की चार सदस्यीय टीम के सदस्य पटना हाईकोर्ट के पूर्व कार्यकारी मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति नागेन्द्र राय ने शुक्रवार को ‘हिन्दुस्तान’ को बताया कि पाकिस्तान का दौरा बहुत ही सार्थक रहा। उन्होंने कहा कि करांची, इस्लामाबाद, रावलपिंडी तथा लाहौर की जेलों में भ्रमण के दौरान लगा कि वे अपने ही देश के जेलों में बंद पाकिस्तान के 12 मछुआरों को रिहा कर दिया गया है। अब बारी पाकिस्तान की जेलों में बंद 412 भारतीय मछुआरों का रिहा करने की है। उम्मीद है कि उनकी रिहाई जल्दी ही हो जाएगी। उन्होंने कहा कि लाहौर जेल में फांसी की सजा पाए दो भारतीय सर्वजीत कौर और कृपाल से भी मुलाकात हुई।ड्ढr ड्ढr न्यायमूर्ति श्री राय ने बताया कि छोटे-मोटे अपराध के लिए वर्षो से जेलों में बंद औरतों को रिहा करने पर पाकिस्तान ने अपनी सहमति जताई है। अनेक लोग सीमा रखा पार करने के आरोप में जेलों में बंद हैं। ऐसे लोगों को छोड़ने के मुद्दे पर भी सकारात्मक बातचीत हुई है। श्री राय ने कहा कि भारत और पाकिस्तान की जेलों की स्थिति लगभग एक समान ही है।ड्ढr उन्होंने बतायाकि आगामी 20 जुलाई को पाकिस्तान के पूर्व जजों की टीम भारत आ रही है जो यहां की जेलों में बंद पाकिस्तानी कैदियों की स्थिति की समीक्षा करगी। उन्होंने कहा कि दोनों देशों की जनता के बीच अब भी काफी आत्मीय संबंध है।ड्ढr ड्ढr पाकिस्तान की सड़कें काफी अच्छी हैं और वहां के लोग भी। भारत की तरह वहां मध्यमवर्गीय श्रेणी के लोग न के बराबर हैं। अमीर लोगों की जितनी संख्या है लगभग उतनी ही गरीबों की भी है। लेकिन इन सबके बावजूद भारतीयों के प्रति आम लोगों का सम्मान अब भी बरकरार है। भारतीय टीम में श्री राय के अलावा पंजाब के दो और दिल्ली के एक पूर्व जज भी शामिल थे।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भारत व पाकिस्तान की जेलें एक समान: नागेंद्र राय