DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रटने की बजाय समझने का प्रयास करें

रटने की बजाय समझने का प्रयास करें

राजनीति विज्ञान का बारहवीं कक्षा का पाठय़क्रम व्यावहारिक एवं वास्तविकता से जुड़ा हुआ है। अत: इसे रटने की बजाय समझने का प्रयास करें। इस विषय को समझने का सबसे बेहतर माध्यम एनसीईआरटी की पाठय़ पुस्तकें हैं, जिनमें बहुत आसान भाषा, सरल प्रस्तुतीकरण, चित्रों एवं कार्टून्स के माध्यम से विषय को रोचक बनाया गया है।

कैसे करें तैयारी
तैयारी का आधार एनसीईआरटी की पुस्तकों को ही बनाएं। कई बार उन पुस्तकों को पढ़ें तथा मुख्य बिन्दुओं, तिथियों, समझौतों एवं महत्वपूर्ण तथ्यों को रेखांकित अवश्य करें। जिस पाठ का कोई नक्शे का प्रश्न बनता है, उस नक्शे को कई-कई बार भरें। बार-बार अभ्यास से आप नक्शे के प्रश्न में पूरे अंक ला सकेंगे। राजनीति विज्ञान की तैयारी के लिए करंट अफेयर्स की जानकारी होना अत्यंत आवश्यक है, इसलिए राष्ट्रीय व अन्तर्राष्ट्रीय घटनाक्रम के प्रति सजग रहें।

एनसीईआरटी की पुस्तकों से तैयारी के बाद सैंपल पेपर्स एवं पिछले वर्षों के प्रश्न पत्रों को अवश्य हल करें। परीक्षा की दृष्टि से तैयारी में ये प्रश्नपत्र काफी सहायक होते हैं। जो विद्यार्थी अभी तक पास होने लायक अंक भी प्राप्त नहीं कर पा रहे हैं, वे इन वर्षों के प्रश्नपत्रों को जरूर याद करें। कम से कम पिछले पांच वर्षों के प्रश्नपत्रों को अवश्य याद करें, सफलता जरूर मिलेगी। सकारात्मक सोच, प्रतिदिन अभ्यास और सच्ची लगन सफलता के मूल मंत्र है।

महत्वपूर्ण विषय
राजनीति विज्ञान की विषय वस्तु को दो पुस्तकों में विभाजित किया गया है। दोनों के अंक समान हैं। समकालीन विश्व राजनीति एवं स्वतंत्र भारत में राजनीति दोनों का अध्ययन अनिवार्य है। विश्व राजनीति में  ‘अमेरिकी वर्चस्व’ सत्ता के वैकल्पिक केंद्र, समकालीन दक्षिण एशिया, शॉक थेरेपी आदि अध्यायों में से अधिक अंक के प्रश्न आते हैं। स्वतंत्र भारत में राजनीति में से राष्ट्र निर्माण की चुनौतियां, नियोजित विकास की राजनीति, आपातकाल के कारण एवं परिणाम, जन आंदोलन आदि विषयों पर 6 अंक के प्रश्न अवश्य तैयार करें। संयुक्त राष्ट्र एवं भारत की विदेश नीति पर भी प्रश्न तैयार करें। विषय वस्तु को अनावश्यक रूप से लंबा न खीचें। प्वाइंट्स में सटीक उत्तर लिखेंगे तो अधिकतम अंक मिलेंगे। उत्तर में कही गई मुख्य बातों को रेखांकित भी करें।

खास बातें
प्रश्न पत्र को हल करना भी एक कला है। आपकी प्रस्तुति पर ही अंक निर्भर करते हैं। प्रश्न पत्र मिलते ही उसे ध्यान से पढ़ें। 15 मिनट का जो समय प्रश्न पत्र पढ़ने के लिए दिया जाता है, उसमें उत्तर देने की रूपरेखा तैयार कर लें। प्रश्नों को पूरा पढ़ें तथा समझें कि क्या पूछा गया है। जहां तक संभव हो, उत्तर पॉइंट्स में लिखें। शीर्षकों को मोटा-मोटा लिखें। अंकों के अनुरूप ही उत्तर लिखें। समय सीमा का भी ध्यान रखें।

राजनीति विज्ञान के प्रश्न पत्र में चार तरह के प्रश्न होते हैं। 1 अंक के 10 प्रश्न, जिनका उत्तर एक-दो लाइनों में सटीक रूप से दिया जाना चाहिए। 2 अंक के भी 10  प्रश्न होते हैं, जिनका उत्तर 50 शब्दों से ज्यादा न हो, 4 अंक वाले भी 10 प्रश्न होते है, जिनका उत्तर 100 से 125 शब्दों के बीच दिया जाना चाहिए। 6 अंक वाले 5 प्रश्न होते हैं, जिनका उत्तर 150 से 200 शब्दों के बीच होना चाहिए। इन प्रश्नों के मुख्य बिंदुओं को रेखांकित अवश्य करें।

प्रश्नों के लिए समय बांट लें। बहुत छोटे उत्तर के लिए 2 मिनट, छोटे उत्तर के लिए 4 से 6 मिनट व 6 अंक वाले प्रश्नों  के लिए 10 से 15 मिनट का समय दें। 15 मिनट का समय पेपर  को दोहराने के लिए अवश्य रखें।
4 अंक के मूल्य आधारित (वैल्यू बेस्ड) प्रश्न किसी भी अध्याय के बीच में से आ सकते हैं। विद्यार्थी इनका भी अभ्यास करें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रटने की बजाय समझने का प्रयास करें