DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

क्रिमिनल लॉयर: कानून के रखवाले

भारतीय संविधान के अनुसार कोई भी व्यक्ति कानूनी प्रक्रिया पूरी किए बिना किसी अपराध के लिए दंडित नहीं किया जा सकता। यह प्रावधान हमारे देश में क्रिमिनल लॉ का प्राणतत्व है, जो दो बेसिक धाराओं की नींव है- पहला, भारतीय दंड संहिता जो हत्या, चोरी, डकैती, लूट, बलात्कार इत्यादि के लिए है तथा कोड ऑफ क्रिमिनल प्रोसीजर, जिसमें अपराध की जांच के लिए मशीनरी तथा अपराधी की सजा के निर्धारण का प्रावधान है।

क्रिमिनल लॉयर का काम अपने क्लाइंट की जान और स्वतंत्रता की रक्षा कानून के दायरे में रहकर करना होता है। यह काफी चुनौतीपूर्ण काम होता है और रोचक भी, क्योंकि इसमें कानूनी बाधाएं ङोलने वाले समाज के विभिन्न प्रकार के लोगों से मिलना-जुलना होता है।

पारिश्रमिक
क्रिमिनल लॉयर, जिसके पास पांच साल का अनुभव है, वह 20 से 50 हजार रुपये प्रतिमाह तक कमा सकता है। दक्षता और कड़ी मेहनत से आय बढ़ सकती है। वरिष्ठ स्तर पर आय की व्यापक संभावनाएं हैं, जहां पर एक पेशी के लिए लाखों रुपये की फीस वसूल की जाती है।

दक्षता और योग्यता
त्वरित कार्यवाही
खुले तथा स्वतंत्र विचार
आधिकारिक नेतृत्व क्षमता
बेहतर सुनने वाला और उत्तम वाचन क्षमता
अलग से हट कर सोच वाला’बेहतर संवाद क्षमता
धैर्य

कैसे हासिल करें मुकाम
किसी भी विषय में 12वीं करें। कॉमन लॉ एडमिशन टेस्ट या किसी अन्य परीक्षा में बैठें, ताकि आप पांच वर्षीय बीए एलएलबी कोर्स में प्रवेश ले सकें। आप तीन वर्षीय डिग्री प्रोग्राम एलएलबी में भी प्रवेश ले सकते हैं। बीए एलएलबी या एलएलबी के बाद आप मास्टर्स यानी एलएलएम कर सकते हैं। इसके बाद आप किसी लॉ फर्म/इंडस्ट्री में ज्वाइन कर सकते हैं या स्वतंत्र प्रैक्टिस कर सकते हैं।

संस्थान तथा वेबसाइट
दिल्ली यूनिवर्सिटी
www.du.ac.in
नेशनल लॉ स्कूल्स/यूनिवर्सिटीज, मल्टीपल लोकेशंस
www.clat.ac.in
बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी, वाराणसी
www.isical.ac.in
अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी
www.amu.ac.in
गवर्नमेंट लॉ कालेज, मुंबई
www.glcmumbai.com
नेशनल लॉ स्कूल ऑफ इंडिया यूनिवर्सिटी, बेंगलुरू
www.nls.ac.in
नाल्सर यूनिवर्सिटी ऑफ लॉ, हैदराबाद
www.nalsar.ac.in 
सिम्बायोसिस लॉ स्कूल, पुणे
www.symlaw.ac.in

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:क्रिमिनल लॉयर: कानून के रखवाले