DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुखिया महासंघ के आंदोलन का कांग्रेस का समर्थन

कांग्रेस की बिहार इकाई ने राज्य में पंचायती राज व्यवस्था को अधिकार संपन्न बनाये जाने को लेकर प्रदेश मुखिया महासंघ के होने वाले आंदोलन का समर्थन करने का निर्णय लिया है।   

कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता वी.के. ठाकुर ने मंगलवार को बताया कि मुखिया महासंघ के नेताओं की पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौधरी, कांग्रेस विधान मंडल दल के नेता सदानंद सिंह और पार्टी के पंचायती राज विभाग के प्रदेश अध्यक्ष सिद्धनाथ राय के साथ हुई बातचीत के बाद पार्टी ने मुखिया महासंघ के आंदोलन का समर्थन करने का निर्णय लिया है। उन्होंने बताया कि मुखिया महासंघ की ओर से कल प्रस्तावित गांव बंद, बिहार बंद, कार्यक्रम में पंचायती राज विभाग की जिला स्तरीय कमेटी सहयोग करेगी।

ठाकुर ने बिहार सरकार पर त्रिस्तरीय पंचायती राज व्यवस्था को कमजोर करने और पंचायत प्रतिनिधियों को नौकरशाहों से अपमानित कराने का आरोप लगाते हुए कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री स्व० राजीव गांधी ने संविधान संशोधन के जरिये जिला परिषदों, पंचायत समितियों तथा स्थानीय निकायों को जो अधिकार दिलवाया था, उसमें राज्य सरकार वर्ष 2005 से ही निरंतर कटौती कर रही है। उन्होंने कहा कि बिहार सरकार ने पंचायती राज व्यवस्था को नौकरशाहों के चंगुल में फंसा दिया है, जिसके कारण पंचायत जनप्रतिनिधि आये दिन अपमानित होने के साथ ही झूठे मामलों के शिकार हो रहे है। 

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की संपूर्ण देश में पंचायती राजव्यवस्था को सुदृढ़ करने और जन प्रतिनिधियों को अधिकार संपन्न बनाये जाने की चिंता की चर्चा करते हुए ठाकुर ने कहा कि जबतक ऐसा नहीं होगा तब तक योजनाओं का सही क्रियान्वयन एवं गरीबों का विकास नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि गांवों के इस देश में पंचायती राज व्यवस्था को मजबूत किये बिना देश के समग्र विकास की कल्पना बेमानी है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुखिया महासंघ के आंदोलन का कांग्रेस का समर्थन