DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मकान कब्जाने व मारपीट में फंसे सीओ, इंस्पेक्टर

मुरादाबाद। कार्यालय संवाददाता। खाकी वर्दीधारियों की कार्यप्रणाली पर सवाल उठा है। मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में अलग-अलग मामलों में दो परिवाद दायर किए गए है। एक मामला शहर के मुगलपुरा क्षेत्र में मकान पर जबरन कब्जे को लेकर है। इस मामले में कोतवाली के सीओ और थाने के इंस्पेक्टर समेत सात लोगों के खिलाफ अदालत में परविाद दायर किया गया है।

जबकि दूसरा मामला चंदौसी कोतवाली का है। मुगलपुरा के फैजगंज निवासी शकील अहमद ने आज सीजेएम कोर्ट में पुलिस मिलीभगत से मकान कब्जाने की शिकायत दर्ज कराई है। उनका कहना है कि मकान के ऊपरी मंजिल पर गुलाम हुसैन व उनके पुत्र आदि ने रंगदारी वसूलनी चाही। बाद में लोग मकान पर चढ़ आए और कब्जा कर लिया। इस बारे में मुगलपुरा इंस्पेक्टर और सीओ कोतवाली से शिकायत की। लिखित प्रार्थना पत्र दिए जाने के बावजूद पुलिस ने उनकी नहीं सुनी।

आरोप है कि 9 दिसंबर, 13 को पुलिस ने शांति भंग में उसका चालान कर दिया। शिकायत पर पुलिस ने उसे भगा दिया। मामले में शकील अहमद ने सीओ, इंस्पेक्टर समेत सात लोगों के खिलाफ परिवाद दाखिल किया है। दूसरा मामला चंदौसी से जुड़ा है। कोतवाली क्षेत्र निवासिनी में महिला रितु देवी पत्नी सतेन्द्र सिंह का कहना है कि 27 नवंबर की रात वे घर में थी। इस दौरान इंस्पेक्टर प्रवीन कुमार सिंह, एसएसआई सरताज, कांस्टेबिल ओंकार त्यागी व अन्य पुलिस कर्मियों ने पति के बारे में पूछा।

जाति सूचक शब्दों का प्रयोग करते हुए पुलिस ने मारपीट की। इस मामले में शिकायत की गई। उन्हें गलत मुकदमें फंसाने की धमकी दी गई। इस मामले में महिला ने आज सीजेएम कोर्ट में चंदौसी इंस्पेक्टर के खिलाफ परविाद दायर किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मकान कब्जाने व मारपीट में फंसे सीओ, इंस्पेक्टर