DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सात लाख रुपए सुपारी देकर करायी गयी फौजी की हत्या

कार्यालय संवाददाता पटना। पोस्टल पार्क इलाके में बीते वर्ष 25 दिसंबर को रिटायर्ड फौजी लालबिहारी सिंह की हत्या करने की साजिश उनके अपने नहीं बल्कि सौतेले बेटे संजय कुमार ने रची थी। सात लाख रुपए में बुजुर्ग के जान का सौदा किया गया। लालबिहारी की संपत्ति और पैसों के लिए उन्हें मौत के घाट उतारने की साजिश रची गयी।

संजय ने कांट्रैक्ट किलरों की मदद ली। इतना ही नहीं पटना पुलिस की जांच को गलत दिशा की ओर ले जाने की पूरी कोशशि की गयी। शुरूआती दौर में मृतक के बेटे सुधीर का नाम आया था। लेकिन जब पुलिस ने अपनी तफ्तीश करनी शुरू की तो मामला कुछ और ही निकला।

कंकड़बाग थानाध्यक्ष अरुण गुप्ता ने बताया कि पुलिस ने मलाही पकड़ी इलाके से संजय को गिरफ्तार कर लिया है। मृतक की डायरी से खुला राज लालबिहारी सिंह की डायरी से पूरे मामले की जानकारी पुलिस को मिली।

डायरी में तारीख और दिन देकर उन्होंने इस बात का जिक्र किया है कि संजय, दिनेश कुमार गुप्ता और उनकी दूसरी पत्नी श्यामसुंदरी देवी लालबिहारी की हत्या कराना चाहती हैं। इतना ही नहीं डायरी में यहां तक लिखा है कि किस दिन संजय जेल जाकर अपराधियों से उनकी हत्या कराने को लेकर मिलता था। ये सब पढ़ने के बाद पुलिस ने जांच की दिशा बदली और संजय को गिरफ्तार किया गया। संजय ने पुलिस के समक्ष सारा गुनाह कबूल कर लिया।

सुपारी की आधी रकम ही दी गयी पुलिस के मुताबिक संजय ने बताया कि सात लाख में से उसने साढ़े तीन लाख रुपए घटना के 20 दिन पूर्व ही कांट्रैक्ट किलरों को दिए थे। बाकी रकम घटना के बाद देनी थी। किलर आसपास के ही रहने वाले हैं। पुलिस को उनका नाम पता चल चुका है। हत्यारों की तलाश में छापेमारी की जा रही है। घटना से एक घंटा पहले संजय विक्रमशिला एक्सप्रेस पर बैठकर दिल्ली के लिए रवाना हो गया था।

घटना के बाद उसने अपने साले से मोबाइल पर चार सौ दस सेकेंड बात किया। फिर यूपी में ही उतरकर गया और बीच रास्ते से ही पटना लौट आया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सात लाख रुपए सुपारी देकर करायी गयी फौजी की हत्या