DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सांसद की पत्नी से मांगा जमीन का मूल दस्तावेज

भागलपुर, वरीय संवाददाता। जिला अवर निबंधक सत्यनारायण चौधरी ने सोमवार को जमुई के जदयू सांसद भूदेव चौधरी की पत्नी इन्द्राणी चौधरी से काजीचक में खरीदी जमीन का मूल दस्तावेज मांगा है। इस मामले की 10 जनवरी को डीएम कोर्ट में सुनवाई होनी है। बताया जा रहा है कि डीएम कोर्ट में सुनवाई के बाद सांसद की मुश्किलें और बढ़ सकती हैं।

तारा देवी से खरीदी गई जमीन के दस्तावेज में उसे परती बताया गया है। जबकि डीएम द्वारा गठित जांच टीम ने जो रिपोर्ट दी है उसमें कहा गया है कि जमीन पर मकान था। टीम ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि इन्द्राणी चौधरी ने एक लाख 33 हजार रुपए स्टाम्प और निबंधन शुल्क की चोरी की है। जांच टीम ने उनसे शुल्क वसूल करने की अनुशंसा की है। इसके बाद अवर नबिंधक से मिले प्रतिवेदन के बाद डीएम कोर्ट में वाद दर्ज किया गया है।

डीएम ने अवर नबिंधक को इन्द्राणी से जमीन का मूल दस्तावेज मांगने का निर्देश दिया है। निबंधन कार्यालय में इन्द्राणी चौधरी के पते पर चर्चा होती रही। कार्यालय को यह जानकारी नहीं मिल पाई कि वर्तमान में वह कहां रह रही हैं। मजबूरी में दस्तावेज में दर्ज जगदीशपुर थाना के तगेपुर गांव के उनके घर के पते पर उन्हें पत्र भेजा गया।

अवर निबंधक ने बताया कि मामले की सुनवाई 10 जनवरी को होनी है। इस बीच अगर पत्र नहीं मिला तो स्थानीय पते की जानकारी लेकर मैसेंजर के माध्यम से भी पत्र रिसीव करवाया जाएगा।

जानकारों का कहना है कि डीएम कोर्ट में मूल दस्तावेज मिलने के बाद दूसरे पक्ष को नोटिस किया जाएगा। यदि आरोप सही पाये गए तो डीएम एक लाख 33 हजार रुपए के अलावा जुर्माना भी कर सकते हैं। राशि को जमा करने के लिए कुछ समय दिया जा सकता है। निर्धारित समय पर शुल्क और जुर्माना नहीं देने पर डीएम अवर नबिंधक या स्टाम्प के प्रभारी वरीय उपसमाहर्ता को कोर्ट में सांसद की पत्नी के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करने का निर्देश दे सकते हैं।

एक अधिकारी ने बताया कि डीएम के आदेश पर राशि जमा नहीं करने पर सांसद की पत्नी की मुश्किलें बढ़ सकती है। क्योंकि कोर्ट में दोषी पाये जाने पर सजा या अर्थदंड या दोनों दंड देने का प्रावधान है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सांसद की पत्नी से मांगा जमीन का मूल दस्तावेज