DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बांग्लादेश चुनावों में भारी हिंसा की भारत ने की निंदा

बांग्लादेश में संसदीय चुनावों के दौरान हुई हिंसा की निंदा करते हुए भारत ने सोमवार को कहा कि चुनाव संवैधानिक जरूरत हैं और देश में लोकतांत्रिक प्रक्रिया चलने देनी चाहिए।

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना की अवामी लीग विवादास्पद चुनावों में तीन-चौथाई बहुमत हासिल करने के बाद अगली सरकार बनाने की तैयारी कर रही है। संघर्षों के बीच बांग्लादेश में कम मतदान हुआ और विपक्षी दलों ने चुनाव का बहिष्कार किया।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि बांग्लादेश में 5 जनवरी को हुए चुनाव संवैधानिक जरूरत थे। वे बांग्लादेश की आंतरिक और संवैधानिक प्रक्रिया का हिस्सा हैं। बांग्लादेश की जनता को अपना भविष्य खुद तय करना है और अपने प्रतिनिधियों को इस तरह से चुनना है कि वे उनकी आकांक्षाओं पर ध्यान दें।

मुख्य विपक्षी बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी नीत 18 पार्टियों के गठबंधन ने चुनावों का बहिष्कार कर दिया था और सहयोगी कट्टरपंथी जमात-ए-इस्लामी के साथ चुनावों में बाधा पैदा करने के लिए हिंसक अभियान चलाये।

कल चुनाव से जुड़ी हिंसा में 21 लोगों की मौत हो गयी। अनाधिकारिक परिणामों के अनुसार अवामी लीग के उम्मीदवार 107 सीटों पर जीत हासिल कर चुके हैं और उसकी सहयोगी जतिया पार्टी 300 में से 16 सीटें जीत चुकी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बांग्लादेश चुनावों में भारी हिंसा की भारत ने की निंदा