DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हसन व सुरभि की खिताबी जीत

 नोएडा। वरिष्ठ संवाददाता

एटीए टेनिस टूर्नामेंट के अंडर-14 में हसन अली व सुरभि ने खिताबी जीत दर्ज की। अन्य वर्गो के खिताबी मुकाबलों में भी जोरदार टक्कर देखने को मिली। नोएडा स्टेडियम में खेली जा रही तीन दिवसीय इस प्रतियोगतिा में 100 से अधिक खिलाड़ी दमखम दिखा रहे हैं। प्रतियोगतिा में सात वर्ष की उम्र से लेकर 55 वर्ष तक के खिलाड़ी भाग ले रहे हैं। अंडर-14 में हसन अली ने स्वपनिल को 7-6 (7-5) से हराकर खिताबी मुकाबले अपने नाम किया।

रोमांचक मुकाबले का परिणाम टाइब्रेक से निकला। वहीं लड़कियों के वर्ग में सुरभि ने फाइनल मुकाबले में जीत हासिल की। अंडर-8 में आदित्य पहले, हर्षिता दूसरे व प्रकल्प तीसरे स्थान पर रहे। अंडर-12 के खिताबी मुकाबले में शान चौहान ने मिलिंद को 7-5,6-2 से हराया। अंडर-16 में अनिरुद्ध शर्मा ने अध्ययन को 6-2,6-1 से हराकर खिताब पर कब्जा किया। अंडर-18 में भी अनिरुद्ध शर्मा ने उम्दा प्रदर्शन करते हुए जीत हासिल की। पुरुषों के युगल वर्ग का फाइनल मैच जीशान अली व अग्निवेश की जोड़ी ने परीक्षित व अनिरुद्ध की जोड़ी को 6-2,6-1 से हराया।

लड़कियों के अंडर-12 का खिताब सृष्टि ने अपने नाम किया। अंडर-14 में सुरभि ने रितिका को 6-2,6-2 से हराकर खिताब अपने नाम किया। अंडर-16 में सुरभि ने प्राची को 6-3,6-3 से हराकर खिताब जीता। लड़कियों के अंडर-16 के युगल मुकाबले में आकृति व प्राची विजयी रहीं। पुरुष वर्ग का खिताबी मुकाबला सोमवार को खेला जाएगा। इसी दिन विजेता व उपविजेता खिलाडिम्यों को पुरस्कृत किया जाएगा। सात से 55 वर्ष की उम्र के खिलाड़ी आजमा रहे हैं भाग्यएटीए टेनिस टूर्नामेंट के आठ वर्गो में सात वर्ष की उम्र से लेकर 55 वर्ष की उम्र के खिलाड़ी भाग्य आजमा रहे हैं।

अंडर-8 वर्ग में सात वर्षीय कुमार शौर्य टूर्नामेंट का सबसे छोटा खिलाड़ी है। जबकि पुरुष वर्ग में आरएस रावत सबसे अधिक उम्र के खिलाड़ी हैं। एयर फोर्स से सेवानविृत रावत की उम्र 55 वर्ष की है। वह अब भी नियमित रूप से टेनिस का अभ्यास करते हैं। खास बात यह है कि उन्होंने 24 वर्षीय खिलाड़ी को हराकर सेमीफाइनल में जगह बनाई। इनके अलावा ऑल इंडिया केद्रीय विद्यालय टेनिस के चैंपियन हसन अली भी टूर्नामेंट में भाग्य आजमा रहे हैं।

अंडर-8 में अकेला खिलाड़ी ही खेलता है अंडर-8 में भाग लेने वाले नन्हे खिलाडिम्यों के सामने प्रतिद्वंदी नहीं होते बल्कि प्रशिक्षक उनके पास गेंद फेंककर शॉट की स्थितियों को आंकता है। साथ ही शॉट मारने के बाद बॉल पॉजशिन के आधार पर भी अंक दिए जाते हैं। खिलाड़ी द्वारा मारे गए शॉट की स्थिति के आधार पर अंक दिए जाते हैं। जो खिलाडिम्यों का शॉट पोजशिन बेहतर होता है उन्हें सबसे अधिक दिया जाता है। अंडर-8 में 50 नन्हे खिलाडिम्यों ने भाग लिया।

बेहतर शॉट पॉजशिन के आधार पर पहले, दूसरे व तीसरे स्थान के खिलाडिम्यों को चुना जाता है। अव्वल रहने वाले खिलाड़ी को विजेता माना जाता है। ं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हसन व सुरभि की खिताबी जीत