DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सिविल वर्क की आड़ में कंपनी ने नही लगाया वेंटिलेटर

 बहराइच। हिन्दुस्तान संवाद

निदेशक सचारी रोग ए के गुप्त शनिवार को देर रात जिला अस्पताल पहुंचे। यहां उन्होंने आईसीसीयू कक्ष का स्थलीय निरीक्षण किया। सूत्रों की मानें तो कम्पनी ने सिविल वर्क पूरा न होने का हवाला देकर उपकरणों की स्थापना में असमर्थता जताई थी। इस दौरान निदेशक ने सीएमएस से तत्काल कंपनी को नोटिस जारी कर एक सप्ताह के अन्दर आईसीसीयू की सुविधा प्रदान करने के निर्देश दिए है।

जिले में जापानी इंसेफलाइटिस व अन्य संक्रमण बीमारियों से हो रही मौतों के मद्देनजर जिला अस्पताल में बाल रोगियों के लिए आईसीसीयू कक्ष संचालन होना है। तेरह लाख रुपए की लागत से बना भवन एक माह से तैयार है। साथ ही जरूरी उपकरण भी मुहैया हो गया है। लेकिन स्थापना न होने के कारण रोगी सुविधा से दूर है। क्योंकि उपकरणों की स्थापना नही हो सका है। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग ने कई बार सबन्धित कम्पनी को नोटिस भेजकर अवगत भी कराया है।

बावजूद इसके कंपनी सिविल वर्क पूरा न होने का हवाला देकर काम को लटका रही है। पिछले दिनों मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा. महेश्वरी प्रसाद पाण्डेय ने निदेशक संचारी रोग एके गुप्त को इसकी जानकारी दी। जिस पर शनिवार की रात साढ़े नौ बजे निदेशक कक्ष के निरीक्षण करने यहां पहुंचे। कक्ष व उपकरणों का स्थलीय निरीक्षण कर हकीकत देखी। जिस पर उन्होंने सीएमएस से तत्काल कंपनी को नोटिस जारी करने के निर्देश दिए। साथ ही एक सप्ताह के भीतर सारी औपाचिरिकताएं पूर्ण कर रोगियों को सुविधा शुरू कराने की भी बात कही।

सीएमएस पाण्डेय ने बताया कि पुष्पा सेल्स कंपनी लखनऊ को कई बार वेंटिलेटर स्थापना के लिए अवगत कराया गया, लेकिन कम्पनी भवन कार्य पूरा न होने का हवाला देकर टालमटोल कर रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सिविल वर्क की आड़ में कंपनी ने नही लगाया वेंटिलेटर