DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मत करो इत्ती मस्ती, नहीं है जिंदगी सस्ती

 लखनऊ। वरिष्ठ संवाददाता

रेड लाइट सिग्नल का क्या अर्थ होता है..? ड्राइविंग लाइसेंस के लिए कितनी उम्र होनी चाहिए..? हेलमेट क्यों पहनना जरूरी है..? ट्रैफिक नियमों के ये सवाल रविवार को केडी सिंह बाबू स्टेडिएम में बच्चों से पूछे गए।

शुभम सोती फाउण्डेशन द्वारा आयोजित सड़क सुरक्षा जागरुकता के इस कार्यक्रम में सही जवाब देने वाले बच्चों को इनाम दिया जाने लगा तो दूसरे बच्चों भी जवाब देने में उत्साह दिखाने लगे। फाउण्डेशन के अध्यक्ष एसजीपीजीआई के पीआरओ आशुतोष सोती के नेतृत्व में इस साल भी रविवार को वॉकाथन-2014 का आयोजन किया गया। दोपहर डेढ़ बजे शहीद स्मारक पर कई स्कूलों के छात्र-छात्राएं व नागरिक पहुंचे। विज्ञान एवं प्रोद्योगिकी राज्यमंत्री अभिषेक मिश्र ने बच्चों की रैली को रवाना किया और खुद भी उनके साथ चलने लगे।

बच्चों के हाथों में तख्तियां थी जिन पर नसीहत के तौर पर लिखा था कि..‘मत करो इतनी मस्ती, जिन्दगी नहीं है इतनी सस्ती’। ..बाइक चलाते समय हेलमेट जरूर पहने। अभिषेक मिश्र ने कहा कि यातायात नियमों का पालन जरूरी है। हेलमेट पहन कर आप खुद की ही सुरक्षा करते हैं। स्टेडियम पहुंचने पर रैली में शामिल लोगों को खेल मंत्री नारद राय ने भी कई नसीहतें दी। उन्होंने कहा कि यह जरूरी नहीं है कि दुर्घटना हमेशा हमारी गलती से हो।

इसलिए हम सुरक्षित वाहन चालाएं और दूसरों को भी बचाएं। इस मौके पर पीजीआई के निदेशक आरके शर्मा, पूर्व मंत्री अशोक बाजपेयी, विधायक रविदास मेहरोत्रा व पीजीआई के राजेश गुप्ता भी मौजूद रहे। .

लीजिए हेलमेट पर अब बिना इसके न चलिएगा..हजरतगंज चौराहे पर रविवार को बिना हेलमेट बाइक चला रहे लोगों को रोका जाने लगा। उनसे सवाल पूछा गया कि आखिर हलमेट क्यों नहीं पहनते हैं? बाइक सवारों से सवाल पूछ रहे इन लोगों के साथ ट्रैफिक पुलिस भी थी।

इसी बीच फाउण्डेशन के लोगों ने उन्हें नया हेलमेट दिया और कहा कि बिना इसके गाड़ी न चलाएं। यह आपकी सुरक्षा के लिए दिया जा रहा है। 60 से अधिक लोगों को हेलमेट दिए गए। ताकि कोई और बच्चों की जान न जाए..आशुतोष सोती के बेटे शुभम की पांच जनवरी, 2010 को विवेकानन्द अस्पताल पुल पर सड़क हादसे में मौत हो गई थी। वह स्कूटी से दोस्त के साथ जा रहा था। इकलौते बेटे की मौत के बाद आशुतोष, पत्नी बीना व बेटियों शगुन, आनिका ने सड़क सुरक्षा जागरुकता के लिए काम करना शुरू कर दिया था।

इसके लिए ही शुभम सोती फाउण्डेशन का गठन किया गया था। आशुतोष कहते हैं कि अब किसी और के बच्चों की इस तरह से सड़क हादसे में मौत न हो। इसलिए वह सड़क सुरक्षा जागरूकता अभियान चला रहे हैं। हर साल पांच जनवरी को मनेगा रोड तहजीब दिवसखेलमंत्री नारद राय ने रविवार को वॉकाथन-2014 के मौके पर स्टेडिएम में घोषणा की कि अब हर वर्ष यूपी में पांच जनवरी को रोड तहजीब दिवस बनाया जाएगा। इस दिन लोगों को यातायात नियमों का पालन करने के प्रति जागरूक किया जाएगा।

आशुतोष सोती ने भी कहा कि जल्दी ही वह अभिभावकों के साथ एक अभियान चलाने का प्रयास कर रहे हैं जिसमें उन्हें बच्चों की सुरक्षा के प्रति जागरूक किया जाएगा। उन्हें समझाया जाएगा कि अगर बच्चा 18 वर्ष से कम हैं तो उसे किसी हाल में बाइक न चलाने दें। बिना ड्राइविंग लाइसेंस के वाहन देने से उसे खतरा रहेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मत करो इत्ती मस्ती, नहीं है जिंदगी सस्ती