DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गांवों में लौह एवं मिट्टी संग्रहण हुआ सम्पन्न

अचलगंज, हिन्दुस्तान संवाद

गुजरात के मान सरोवर तट पर देश के पहले गृहमंत्री सरदार बल्लभ भाई पटेल स्मृति में बनने वाली वशि्व की सबसे ऊंची मूर्ति के लिए गांवों में लौह एवं मिट्टी संग्रहण के कार्यक्रम सम्पन्न हो रहे है। इसी कड़ी में रविवार को विकास खंड सिकंदरपुर कर्ण में साम्प्रदायिक सद्भावना का मशिाल रही ग्राम पंचायत हड़हा में महिला प्रधान माधुरी वर्मा की अध्यक्षता में कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिसमें भाजपा सामाजिक न्याय मोर्चा के प्रदेश महामंत्री एडवोकेट रमेश चंद्र लोधी सरदार बल्लभ भाई पटेल के जीवन चरित्र पर प्रकाश डालते हुए कहा कि 31 अक्टूबर 1875 को गुजरात के साधारण किसान परिवार में जन्मे पटेल जी सच्चे अर्थो में एक सेक्यूलर नेता थे।

वह किसानों का दर्द बड़े करीब से देखा जिसका उन्हें एहसास था। अंग्रेजों ने किसानों पर जब अत्याधिक कर लगाकर उनका उत्पीड़न शुरु किया तो पटेल ने उसका मुखर विरोध किया और जबर्दस्त आंदोलन कर सफलता प्राप्त किया। इससे प्रभावित होकर गांधी जी ने इन्हें किसानों का मसीहा करार देते हुए सरदार की उपाधि से विभूषित किया था। तब से इनके नाम के आगे सरदार लिखा जाने लगा। ऐसे महापुरुष की स्मृतियों को अक्षुण बनाए रखने के लिए बनाए जा रही वशि्व की सबसे ऊंची मूर्ति एवं पुस्तकालय के लिए सभी गांवों से लौह एवं मिट्टी भेजा जाना गौरव का प्रतीक है।

इस मौके पर कानपुर के पार्षद जय नारायण कुशवाहा, लल्लन यादव, राजेश वर्मा, किशोरी लोधी, बदलू, सतीश, सालगिराम त्रिवेदी, कुलदीप सोनकर, रोमेश सिंह, हरशि्चंद्र, सुशीला, दिनेश, मेराज आलम आदि मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गांवों में लौह एवं मिट्टी संग्रहण हुआ सम्पन्न