DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वेंटीलेटर पर ही झुलस गया नवजात

इलाहाबाद वरिष्ठ संवाददाता

नर्सिग होम वाले इलाज के लिए पूरी फीस वसूलते हैं। इसके बाद भी उनको मरीज की परवाह नहीं रहती। शहर के एक निजी अस्तपाल की लापरवाही से नवजात शशिु वेंटीलेटर पर ही झुलस गया। अपने बच्चों की हालत देखकर पिता भी आवाक रह गया। सीएमओ से मामले की शिकायत की गई है। पूरामुफ्ती के अहमदपुर पावन गांव के रहने वाले फारूख वसीम की पत्नी जीनत ने तीस दिसम्बर को गीतांजलि ने अस्पताल में सामान्य प्रसव से बच्चों को जन्म दिया।

बच्चों का वजन भी ठीक था। लेकिन नवजात के फेफड़े में गंदा पानी चला गया था। इसलिए गीतांजलि के डॉक्टर ने नवजात को इलाज के लिए दूसरे अस्पताल में रेफर कर दिया। वसीम ने बताया कि बच्चों को तीस दिसम्बर को ही वात्सल्य अस्पताल में भर्ती करा दिया गया था। बच्चों का इलाज कर रहे डा. एके शुक्ला ने वेंटीलेटर पर रखने की सलाह दी। बच्चों को वेंटीलेटर पर रख दिया गया। वसीम का कहना है जब वह शनिवार को रात नौ बजे अस्पताल के आईसीयू में पहुंचे तो बच्चों के सीने पर काले रंग के दो दब्बे थे।

उन्होंने डाक्टर एके शुक्ला को दिखाया। डाक्टर का भी कहना था कि नवजात शशिु वेंटीलेटर से ही झुलस गया है। लेकिन इससे कोई नुकसान नहीं है। वसीम ने बताया कि बच्चों का प्लेटलेट्स तीन दिन पहले तक 1.18 लाख था। लेकिन शनिवार को प्लेटलेट्स की संख्या घटकर 68 हजार हो गई। वसीम का कहना है कि अस्पताल के कर्मचारियों की लापरवाही से यह हुआ है। इसकी जानकारी सीएमओ को दी गई है। सोमवार को इस विषय में सीएमओ को ज्ञापन देकर जांच कराने की मांग की जाएगी।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वेंटीलेटर पर ही झुलस गया नवजात