DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आखिरकार पकड़ में आ ही गया बंदर

मुजफ्फरपुर। कार्यालय संवाददाता

वन विभाग की टीम जिस बंदर को पकड़ने के लिए लगभग 19 दिन से बालूघाट की खाक छान रही थी, उसे आखिरकार प्रो. एके चौधरी की सूझ-बूझ से पकड़ लिया गया। बालूघाट के लोगों के लिए परेशानी बना यह बंदर पिछले दो माह से लोगों को परेशान कर रहा था। इस दौरान दो बार उसे बेहोशी का इंजेक्शन भी दिया गया, पर वह पकड़ में नहीं आ रहा था। पिछले तीन दिन से बालूघाट निवासी प्रो. चौधरी उसे पकड़वाने की ताक में थे।

रविवार सुबह उन्हें मौका तब मिल गया, जब बंदर उनके बरामदे में घुस गया। उसके घुसते ही उन्होंने ग्रिल बंद कर वन विभाग के अधिकारियों को इसकी सूचना दी। सूचना मिलने पर डीएफओ अभय कुमार, संजय गांधी जैविक उद्यान के कंपाउंडर मकसूदुल हसन तथा वनरक्षी नवरत्न झा ने वहां पहुंच कर बंदर को पहले बेहोशी का इंजेक्शन दिया फिर काबू में कर उसे वन कार्यालय ले गये। अधिकारियों ने बताया कि फिलहाल उसे शेरपुर स्थित वन विभाग के कार्यालय में एक पिंजड़े में रखा गया है।

कल उसे यहां से पटना के लिए स्थानांतरित कर दिया जायेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आखिरकार पकड़ में आ ही गया बंदर