DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बांग्लादेश में चुनावी हिंसा में 21 मरे, 200 केंद्र फूंके

बांग्लादेश में चुनावी हिंसा में 21 मरे, 200 केंद्र फूंके

बांग्लादेश में विपक्षी दल बीएनपी और उसके सहयोगियों की ओर से चुनाव का बहिष्कार करने के आह्वान के बीच रविवार को हुए मतदान में बहुत कम मतदाताओं ने मतदान केंद्रों का रुख किया। वहीं देश में अलग-अलग जगहों पर हुए संघर्ष में 21 लोगों की मौत हो गई तथा 200 से अधिक मतदान केंद्रों को आग के हवाले कर दिया गया।

अधिकारियों ने बताया कि रविवार को स्थानीय समयानुसार सुबह 8 बजे बांग्लादेश के 59 जिलों के 300 निर्वाचन क्षेत्रों में से 147 में मतदान शुरू हो गया। मतदान में ज्यादातर मतदाताओं ने घरों में रहना पसंद किया। बहिष्कार के कारण बाकि सीटों के उम्मीदवारों को निर्विरोध चुना हुआ घोषित कर दिया जाएगा।

पुलिस के साथ पार्लियामेंट्री बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश और रैपिड एक्शन बटालियन फोर्स को भी चुनाव ड्यूटी पर लगाया गया है। 147 सीटों के लिए 390 उम्मीदवार मैदान में है जिनमें से अधिकतर उम्मीदवार सत्तारूढ़ आवामी लीग और उसकी सहयोगी जातीय पार्टी के हैं। इन सीटों के कुल मतदाताओं की संख्या करीब 4.4 करोड़ है। बांग्लादेश में शेष 153 निर्वाचन क्षेत्रों में चुनाव नहीं हो रहे क्योंकि विपक्षी बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) के नेतृत्व वाला 18 पार्टियों का गठबंधन चुनाव का बहिष्कार कर रहा है।

पुलिस ने बताया कि रविवार को 16 लोग मारे गए है जिनमें से ज्यादातर विपक्ष के कार्यकर्ता और सुरक्षाकर्मी हैं। जबकि रात में एक चुनाव अधिकारी सहित तीन लोगों की मौत हुई। चुनाव आयोग ने अभी तक इसकी जानकारी नहीं दी है कि अभी तक कितने प्रतिशत मतदान हुआ है।

मुख्य चुनाव आयुक्त रकीबुददीन अहमद ने मीडिया से कहा कि मतदान कम रहेगा क्योंकि कुछ दल चुनाव में भाग नहीं ले रहे हैं। हालांकि उन्होंने दावा किया कि चुनाव स्वतंत्र तरीके से हुए हैं। अधिकारियों ने आगजनी की घटनाओं के बाद 160 मतदान केंद्रों पर मतदान स्थगित कर दिया। विपक्षी कार्यकर्ताओं ने 200 से अधिक मतदान केंद्रों को आग के हवाले कर दिया।

बीएनपी नीत विपक्षी गठबंधन ने चुनाव स्थगित करने और तटस्थ कार्यवाहक सरकार के गठन की मांग की थी लेकिन शेख हसीना ने उसकी मांगें ठुकरा दीं। विपक्ष की हड़ताल के बीच देश में हुई हिंसा में 150 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं।

बीएनपी अध्यक्ष एवं पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया और उनके निर्वासित बेटे एवं पार्टी के वरिष्ठ उपाध्यक्ष तारिक रहमान ने चुनावों के बहिष्कार का अलग अलग आह्वान किया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बांग्लादेश में चुनावी हिंसा में 21 मरे, 200 केंद्र फूंके