DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खीरी की पहाड़ी में चल रही थी तमंचा फैक्ट्री

 इलाहाबाद। निज संवाददाता

खीरी पुलिस ने अवैध तमंचा फैक्ट्री का भंडाफोड़ किया है। पुलिस ने सलैंयाकला पहाड़ी में घेरेबंदी कर फैक्ट्री में छापा मारा तो तमंचा बनाते हुए दो कारीगर मिल गए। मौके से 5 तैयार और कई अर्धनिर्मित तमंचे मिले हैं। इसके साथ ही असलहे बनाने के उपकरण भी बरामद हुए। आरोपियों खिलाफ खीरी थाने में मामला दर्ज कर जेल भेज दिया गया। आरोपियों से पूछताछ में पता चला कि इस काले धंधे का सरगना कोई और है।

पुलिस उसके खिलाफ भी सबूत जुटा रही है। गिरफ्तार किए गए कारीगर जगदीश उर्फ भोंदू वशि्वकर्मा निवासी गउरा कौंधियारा और सुरेश वशि्वकर्मा निवासी नौगवां कौंधियारा हैं। एसपी क्राइम अरुण कुमार ने बताया कि फैक्ट्री में ये दोनों बतौर कारीगर काम करते थे। इन्हें तमंचे के हिसाब से रकम मिलती थी। ये एक दिन में 2 से 3 तमंचे तैयार करते थे। इन्हें उमा केवट निवासी छोडिम्या कौंधियारा और रामसागर उर्फ झल्लर निवासी झरियाही खीरी पूरा सामान मुहैया कराते थे। उमा और रामसागर हैं सरगनाउमा और रामसागर ही इस धंधे के सरगना और सप्लायर हैं।

जगदीश और सुरेश उनके लिए ही तमंचा तैयार करते थे। जिसके एवज में इन्हें प्रति तमंचा 12सौ रुपये मिलता था। यह धंधा काफी समय से चल रहा था। जगदीश को तमंचा बनाने में महारत है और पहले भी तीन बार पकड़ा जा चुका है जबकि सुरेश पहली बार गिरफ्त में आया है। तैयार तमंचा पांच से सात हजार तक में बेचा जाता था। उमा और रामसागर अभी पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं। पुलिस ने मौके से एक अद्धी 315 बोर, चार तमंचे, तीन कारतूस और भारी मात्रा अद्धनिर्मित शस्त्र व नाल, बॉडी, भट्ठी, लोहे का गाटर, हथौड़ा, पेचकस आदि बरामद किया।

गिरफ्तारी टीम में एसओ खीरी राजेश कुमार सिंह, सिपाही पुष्पराज सिंह, जितेंद्र कुमार, ज्ञानेश्वर, राजेश और सुशील शामिल रहे। एसएसपी ने गिरफ्तार करने वाली टीम को 5 हजार रुपये इनाम देने की घोषणा की है। आसपास के जिलों में करते थे सप्लाईपूछताछ में जगदीश और सुरेश ने बताया कि उमा केवट और रामसागर यहां के अलावा मिर्जापुर, भदोही और सोनभद्र तक इन असलहों की सप्लाई करते थे। एसओ राजेश सिंह ने बताया कि सरगना उमा केवट और रामसागर की गिरफ्तारी के लिए प्रयास किया जा रहा है।

उनके पकड़े जाने के बाद ही पता चल पाएगा की कहां कहां असलहों की सप्लाई करते हैं। उसके बाद असलहा खरीदने वालों पर शिकंजा कसा जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:खीरी की पहाड़ी में चल रही थी तमंचा फैक्ट्री