DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पैसे के नाम पर प्राईवेट कंपनियों का झांसा

 मेरठ। हमारे संवाददाता

गंगा प्लाजा स्थित एक फाइनेंस कंपनी ने लोन दिलाने के नाम पर शहर के कई लोगों का लाखों रुपए ठग लिए। कंपनी ने फाइनेंस के नाम पर लोगों ने कुछ प्रतिशत एडवांस मनी जमा करा ली और लोन के कागजात में कमी बताकर लोन अस्वीकृत कर दिया। लोगों ने जब अपनी एडवांस मनी वापस मांगी तो कंपनी ने उस पैसे को प्रोसेस फीस बताकर पैसा वापस करने से मना कर दिया।

फाइनेंस कंपनी से ठगी के शिकार लोगों ने शनिवार को गंगा प्लाजा स्थित राजधानी फाइनेंस कंपनी के कार्यालय मे हंगामा किया। इस दौरान कंपनी के डायरेक्टर और अन्य कर्मचारी ऑफिस को बंद करके फरार हो गए। मामले की जानकारी मिलते ही लालकुर्ती थाना पुलिस मौके पर पहुंचकर हंगामा कर रहे लोगों को शांत किया। ठगी के शिकार लोगों ने सोमवार को एसएसपी से शिकायत करने की बात कही है। बता दें कि इस फाइनेंस कंपनी ने इससे पहले भी कई लोगों को अपनी ठगी का शिकार बनाया है।

तीन माह पूर्व भी इस मामले में एक महिला ने कंपनी के ऑफिस पर हंगामा किया था। नया नही है प्राईवेट कंपनियों की ठगी का धंधा- - लोन के नाम पर हजारों की ठगी कंकरखेड़ा थाना क्षेत्र के रोशनपुर डोरली निवासी सोनम पत्नी जोगिन्दर से तीन माह पूर्व गंगा प्लाजा स्थित एक फाइनेंस कंपनी ने 53 हजार रुपए ठग लिए थे। सोनम ने कंपनी से दो लाख रुपए लोन के लिए आवेदन किया था। फाइनेंस कंपनी के डायरेक्टर ने कागजी कार्रवाही और अन्य काम के लिए 53 हजार रुपए महिला से एडवांस ले लिए, लेकिन ना तो उनका लोन स्वीकृत हुआ और ना ही महिला का पैसा वापस मिल पाया।

पीड़िता ने एसएसपी से फाइनेंस कंपनी के डायरेक्टर के खिलाफ कार्रवाही की मांग की थी। - नौकरानी के नाम पर ठगे हजारों रुपए मेडिकल क्षेत्र सोमदत्त वहिार निवासी संजय जैन ने 2 नवम्बर को एक बेबसाइट के माध्यम से दिल्ली स्थित एलाईड सर्विसेज से नौकरानी प्रोवाइड करने के लिए संपर्क किया था। एजेंसी ने नौकरानी देने के एवज में एग्रीमेंट कराकर उसे तीस हजार कमीशन के और ढाई हजार रुपए वेतन एडवांस ले लिया। लेकिन घर पर एक दिन काम करने के अगले दिन नौकरानी घर से गायब हो गई।

जब उसने कंपनी की मालिक से संपर्क किया तो उसने कहा कि वह काम नही करना चाहती है। पीड़ित ने एडवांस रकम को वापस मांगा तो कंपनी ने एग्रीमेंट का हवाला देकर पैसा वापस देने से मना कर दिया। पीड़ित ने एसएसपी से कार्रवाई की मांग की थी। - पैसा दस गुना करने के नाम पर 15 लाख की ठगी 12 साल में अपनी रकम दस गुना कराने का लालच देकर एक फाइनेंस कंपनी ने नेहरुनगर निवासी दंपति से 15 लाख रुपए ठग कर ले गया।

नौचंदी थाना क्षेत्र के नेहरुनगर निवासी राजीव पांडेय और रंजना पांडेय ने लगभग दस माह पहले सूरजकुंड रोड स्थित एक फाइनेंस कंपनी में 15 लाख रुपए निवेश किए थे। कंपनी ने उन्हें स्कीम के तहत 12 साल में निवेश की गई रकम का दस गुना देने का एग्रीमेंट किया था। बदले में कंपनी ने उन्हें पेयमेंट की नकली रसीदें दे दी और पैसा लेकर फरार हो गई। - पार्टनर बनाने के नाम पर लाखों की ठगी तीन माह पूर्व रामबाग कालोनी निवासी मीट व्यापारी दिलशाद कुरैशी ने अपने एक परिचित के कहने पर इंदिरा चौक स्थित स्पोर्ट्स कंपनी में दस लाख रुपए का निवेश किया था।

कंपनी ने उसे कच्चा मॉल खरीदने के लिए रुपया लगाकर बदले में पक्का माल बेचकर कंपनी के मुनाफे में पार्टनर बनाया था। लेकिन रुपया लगाने के तीन महीने बाद भी जब रुपया वापस आना शुरु नहीं हुआ तो मीट कारोबारी ने अपना पैसा वापस मांग लिया। लेकिन कंपनी ने उसे पैसा वापस नहीं किया। ठगी के शिकार लोगों में मीट व्यापारी समेत श्यामनगर निवासी शीबा ने पांच लाख रुपए, कबाड़ी बाजार निवासी रुही ने तीन लाख रुपए, ऊंचा पीर निवासी नफीस ने सात लाख रुपए कंपनी में निवेश किए थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पैसे के नाम पर प्राईवेट कंपनियों का झांसा