DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महंगाई की पड़ी मार, ऑटो का किराया बढ़ा

गाजियाबाद। वरिष्ठ संवाददाता

डीजल, पेट्रोल और सीएनजी के रेट में इजाफा होने के बाद शहर के ऑटो चालकों ने किराया बढ़ाना शुरू कर दिया है। रेलवे स्टेशन से पुराना बस अड्डा रूट पर ऑटो चालकों ने सात रुपये की बजाय दस रुपये वसूलने शुरू कर दिए हैं। इसके अलावा ट्रांसपोर्टर भी हर तीन माह के बाद माल भाड़े में बढ़ोतरी कर देते हैं।

आने वाले समय में बढ़े किराये के रूप में लोगों पर महंगाई की चपत पड़ेगी। सालभर में डीजल की कीमतों में 8.70 रुपये प्रति लीटर और सीएनजी की कीमतों में 11 रुपये प्रति किलो की बढ़ोतरी हो चुकी है। महंगे होते पेट्रोल को देख जिन लोगों ने सीएनजी किट कार में लगवाई या सीएनजी किट लगी नई कार खरीदी उन्हें भी सालभर में ही सीएनजी की बढ़ी कीमत का बोझ उठाना पड़ रहा है। --सालभर में 16 बार बढ़े डीजल के दामसालभर में डीजल के दामों में 16 बार इजाफा हुआ है।

एक जनवरी 2013 को डीजल की कीमत 50.16 रुपये प्रति लीटर थी, वहीं आज डीजल 58.86 रुपये प्रति लीटर पर मिल रहा है। केंद्र सरकार ने डीजल की कीमतों में प्रतिमाह 50 पैसे प्रति लीटर इजाफा करने की घोषणा की हुई है, लेकिन प्रदेश में वैट की बढ़ी दरों के कारण यूपी में लगभग 55 पैसे की बढ़ोतरी होती है। --17 बार पेट्रोल की कीमतों में उतार-चढ़ावपेट्रोल की कीमतों में सालभर में 17 बार उतार-चढ़ाव आया। पूरे साल में पेट्रोल के दामों में 6.49 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई है।

सबसे कम मूल्य 69.22 रुपये प्रति लीटर रही, जबकि सबसे ज्यादा कीमत 14 सितंबर को 83.18 रुपये प्रति लीटर तक पहुंची। --सीएनजी के बढेम् दाम (रुपये/किलो)दिन कीमत04 जनवरी 45.10 25 जून 47.35 05 सितंबर 51.55 27 दसिंबर 56.70 ----फिलहाल क्या हैं दामउत्पाद दामसीएनजी 56.70 रुपये/ किलोपेट्रोल 79.27 रुपये/लीटरडीजल 58.86 रुपये/लीटर--चुनिंदा शहरों के लिए मालभाड़ा (रुपये)शहर मौजूदा भाड़ा पूर्व भाड़ाकानपुर 18 हजार 14 हजारचेन्नई 30 हजार 20-22 हजारबनारस 27 हजार 19-20 हजारआगरा 3 हजार 4 हजार ऋषिकेश 4200 5500 --डीजल के दाम तो हर माह 50 पैसे प्रति लीटर बढ़ ही रहे हैं।

साथ ही ऑपरेटर मोबिल ऑयल एवं टायरों के बढ़ते दाम से जूझते हैं। यही वजह है कि मालभाड़े में सालभर में 30 फीसदी तक बढ़ोतरी हुई है। गाजियाबाद में ही सात हजार से ज्यादा ट्रक देशभर के विभिन्न शहरों के लिए माल का परवहिन करते हैं। कमलेश कम्मो, अध्यक्ष, गाजियाबाद ट्रक ऑपरेटर्स एसोसिएशन--डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी मालभाड़े में वृद्धि का सबसे बड़ा कारण है। केंद्र सरकार दो साल में डीजल की कीमतों में हर माह 50 पैसे की वृद्धि करने की घोषणा कर चुकी है।

यानि इस वर्ष भी डीजल पर करीब छह रुपये लीटर का इजाफा होना तय है। ऐसे में मालभाड़ा मौजूदा स्तरों से भी आगे जाएगा। नरेश ढींगरा, ट्रांसपोर्टर--महानगर में ऑटो एवं टेंपो का किराया न्यूनतम सात रुपये तय है। कुछ रूटों पर ऑटो चालक न्यूनतम किराया 10 रुपये वसूल रहे हैं। सीएनजी के दाम सालभर में 11 रुपये किलो तक बढ़ चुके हैं। भविष्य में सीएनजी के दाम बढ़े तो किराया बढ़ाना ऑटो चालकों की मजबूरी होगा। दिलशाद, अध्यक्ष, ऑटो यूनियन।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:महंगाई की पड़ी मार, ऑटो का किराया बढ़ा