DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जगन्नाथ मिश्र को 26 मार्च तक औपबंधिक जमानत

रांची। मुख्य संवाददाता। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री एवं चारा घोटाले के आरोपी डॉ जगन्नाथ मिश्र को अब 26 मार्च तक औपबंधिक जमानत मिली है। झारखंड हाइकोर्ट ने शुक्रवार को उनकी याचिका पर सुनवाई करते हुए इसकी अवधि बढ़ाई। उन्हें 27 मार्च को सरेंडर करने का निर्देश दिया गया है। उनकी बीमारी को देखते हुए जस्टिस आरआर प्रसाद की अदालत ने जमानत की अवधि बढ़ाई है। पहले उन्हें 8 जनवरी तक ही औपबंधिक जमानत मिली थी।

मिश्र की ओर से कहा गया कि वह बीमार हैं और दिल्ली के मेदांता अस्पताल में इलाज करा रहे हैं। उनकी स्थिति ठीक नहीं है और इलाज में लंबा समय लगेगा। इस कारण उन्हें या तो स्थाई जमानत दी जाए या औपबंधिक जमानत की अवधि बढ़ाई जाए। सुनवाई के बाद अदालत ने 26 मार्च तक औपबंधिक जमानत की अवधि बढ़ाते हुए 27 मार्च को सरेंडर करने का निर्देश दिया। इसके पहले उन्हें 25 अक्टूबर को आठ जनवरी तक औपंबधिक जमानत मिली थी।

डॉ मिश्र को चारा घोटाले के आरसी 20 ए /96 मामले में चार साल की कैद की सजा सीबीआई कोर्ट ने सुनाया है। नीतीश के मामले पर सुनवाई 17 कोचारा घोटाले मे बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को आरोपी बनाने के मामले पर झारखंड हाइकोर्ट में 17 जनवरी को सुनवाई होगी। मिथिलेश सिंह ने इसके लिए याचिका दायर की है। शुक्रवार को इस पर शीघ्र सुनवाई का आग्रह किया गया। इस पर कोर्ट ने 17 जनवरी की तिथि निर्धारित की।

सीबीआई को जवाब दाखिल करने का निर्देशचारा घोटाले के आरोपी बेक जुलियस और महेंद्र प्रसाद की जमानत के मामले में हाइकोर्ट ने सीबीआई से जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया है। दोनों को चारा घोटाले के आर सी 20 ए/96 में सीबीआई कोर्ट ने सजा सुनाई है। सीबीआई कोर्ट के आदेश के खिलाफ अपील करते हुए जमानत की याचिका दोनों ने दायर की है। इस पर सुनवाई करते हुए अदालत ने सीबीआई को जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जगन्नाथ मिश्र को 26 मार्च तक औपबंधिक जमानत