DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

300 यूनिट फिक्स बिल से आयोग नाराज

पटना। हिन्दुस्तान ब्यूरो। मुजफ्फरपुर में फ्रेंचाइजी कंपनी एस्सेल विद्युत वितरण लिमिटेड द्वारा 300 यूनिट के आधार पर दिये जा रहे फिक्स बिजली बिल पर बिहार विद्युत विनियामक आयोग और नार्थ बिहार पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी ने कड़ी नाराजगी जतायी है। आयोग इस संबंध में बिजली कंपनी से जवाब तलब करेगा। जबकि कंपनी के मुख्य अभियंता की ओर से फ्रेंचाइजी एजेंसी को कड़ा पत्र लिखा गया है।

नार्थ बिहार पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी के एमडी संजय कुमार अग्रवाल के निर्देश पर मुख्य अभियंता (वाणिज्य) एसके सिंह की ओर से लिखे गये पत्र में फ्रेंचाइजी को कहा गया है कि विद्युत अधिनियम 2003 के तहत उपभोक्ताओं को किसी भी सूरत में टैरिफ ऑर्डर से हटकर बिजली बिल नहीं दिया जा सकता।

फ्रेंचाइजी लेने से पहले विद्युत अधिनियम के पालन का करार हुआ है। किसी भी कीमत पर उपभोक्ताओं को 300 यूनिट के आधार पर बिजली बिल नहीं दिया जा सकता है। मुख्य अभियंता ने कहा कि फ्रेंचाइजी का यह व्यवहार उपभोक्ताओं को परेशान करेगा। बिल का क्या है नियमअगर किसी उपभोक्ता के यहां मीटर नहीं लगा है, तो एक किलोवाट के कनेक्शन में 40 यूनिट के आधार पर बिजली बिल दिया जायेगा। इससे अधिक किलोवाट के कनेक्शन पर प्रति किलोवाट 20 यूनिट की वृद्धि होगी।

मीटर लगने के बाद अगर वह खराब हो जाये तो पिछले बिल का औसत निकाल कर बिल दिया जाना चाहिए। 300 यूनिट के आधार पर बिजली बिल दिया जाना इलेक्ट्रिसिटी एक्ट का सीधा उल्लंघन है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:300 यूनिट फिक्स बिल से आयोग नाराज