DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पटना और बोधगया को मिलेंगी 300 नई बसें

पटना। नए साल में राजधानी पटना और बोधगया के लोगों को बेहतर परवहिन सेवा की सुविधा मिलेगी। दोनों शहरों के आसपास के इलाके को अर्बन ट्रांसपोर्ट सिस्टम से जोड़ा जाएगा। केन्द्र सरकार की मशिन अर्बन स्कीम के तहत इसके लिए चार चरणों में 300 बसें दोनों शहरों को मिलेंगी।

इनमें 260 पटना के लिए और 40 बोधगया के लिए होंगी। पहले चरण में 75 बसें 25 से 27 जनवरी के बीच पटना पहुंच जाएंगी। आसपास होगा परिचालनबसों को पटना के आसपास के दानापुर, खगौल, मनेर, बहिटा, पटनासिटी, कुम्हरार, फतुहा, हाजीपुर, पुनपुन, मसौढ़ी, धनरुआ और संपतचक आदि इलाकों के बीच चलाए जाने की संभावना है। इन जगहों के लिए सड़कों के रूट भी तय किए जा रहे हैं। इनमें कई रूटों पर पहले से नगर सेवा की बसें चल रही हैं।

नो प्रॉफिट-नो लॉस सरकार ने इन रूटों के परिचालन के लिए नो प्रॉफिट-नो लॉस का कांसेप्ट रखा है। चूंकि सरकार बसें खुद खरीदकर दे रही है, इसलिए इनका किराया उसी हिसाब से तय होगा कि ऑपरेटर इसे मेंटेन करें और कर्मियों को वेतन आदि दे सकें। प्रॉफिट ओरिएंटेड परिचालन नहीं होने से इनका किराया निजी बसों से कम रखा जाएगा। ऑपरेटर के लिए बिड फिलहाल नगर विकास विभाग में इस पर विचार हो रहा है कि बसों को चलाया किस तरह जाए।

यह पीपीपी मोड की तर्ज पर भी हो सकता है। इसके लिए ऑपरेटरों के लिए नवििदा निकाली जाएगी। हालांकि इन बसों को रखने के लिए डिपो की जगह सरकार मुहैया कराएगी। इसके साथ ही अलग-अलग रूटों के लिए बसों की टाइमिंग, फेरे (फ्रिक्वेंसी) और वाहनों की संख्या भी अभी तय की जानी है। टाटा की होंगी बसें शहर और उसके पास के छोटे शहरों और कस्बों के बीच चलने वाली ये बसें टाटा कंपनी की होंगी। ऐसी एक बस की कीमत 14 लाख रुपये हैं।

यह 26 सीट वाली होंगी। पहले इनकी जगह लो फ्लोर बसें चलाने की योजना थी। मगर व्यावहारिक दिक्कतों के कारण यह संभव नहीं हो सका।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पटना और बोधगया को मिलेंगी 300 नई बसें