DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आप नेताओं की खिदमत में सरकारी बाबू

 नई दिल्ली वरिष्ठ संवाददाता

नई सरकार बनते ही न सिर्फ आप पार्टी के विधायकों की बल्कि उनके नेताओं की खिदमत भी दिल्ली के बाबूओं ने शुरू कर दी है। इससे दिल्ली के विधायक नाराज है और पार्टी के इस रवैये पर कांग्रेस व भाजपा के नेताओं ने कड़ी नाराजगी जाहिर की। हंगामा इतना बरपा कि करीब 25 मिनट तक सदन का कामकाज आगे नहीं बढ़ सका। इस मामले में कांग्रेस के विधायक अध्यक्ष से आदेश जारी किए जाने की मांग कर रहे थे।

विधानसभा में यह मामला कांग्रेस के विधायक प्रहलाद सिंह साहनी ने उठाया। उनका इशारा चांदनी चौक इलाके के राहत शिविर में पहुंचे आप पार्टी के हारे हुए नेता के साथ दौरे की तरफ था। इसके अतिरिक्त जल बोर्ड से संबंधित प्रेस वार्ता में कुमार वशि्वास के शामिल होने पर भी सवाल उठाए गए। इस प्रेसवार्ता में कई अधिकारी भी पहुंचे थे और स्थानीय विधायक को इस की जानकारी तक नहीं थी। बताया जा रहा है कि इस दौरे में आप पार्टी से हारे हुए प्रत्याशी व अन्य कार्यकर्ता भी शामिल थे।

कांग्रेस के नेता अरविदर सिंह लवली ने कहा ने इस मामले में कहा कि अध्यक्ष को दिल्ली विधानसभा के संरक्षण की आवश्यकता है और यदि किसी अधिकारी द्वारा ऐसा किया ग या है तो यह एक गंभीर मुद्दा है। इस मामले में संबंधित अधिकारी के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि इससे पूर्व आप पार्टी के नेताओं को अन्य सरकारी कार्यक्रम में भी देखा गया है। इस पर भाजपा नेता जगदीश मुखी ने कहा कि यदि किसी भी विधायक के क्षेत्र में कोई भी मंत्री जाते हैं तो इसकी पूर्व सूचना संबंधित विधायक को दी जानी चाहिए।

यह चुने गए सदस्यों के अधिकारों के हनन का मामला है। इसके लिए भाजपा ने अध्यक्ष से आदेश दिए जाने की मांग की। मैं सदस्यों को वशि्वास दिलाता हूं कि सदन के सदस्यों के अधिकारों की रक्षा की जाएगी : मनिंदर सिंह धीर, विधानसभा अध्यक्ष, दिल्ली। झलकियांमुख्यमंत्री के साथ अधिकारी गायब : मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल किसी विशेष बैठक की वजह से सदन छोड़कर पहले ही चले गए थे। इसके बाद सदन की अधिकारी दीर्घा भी खाली हो गई थी। विधायक साहब सिंह चौहान ने कहा कि कोई भी अन्य बैठक सदन से ऊपर नहीं हो सकती।

इसे भाजपा ने सदन का अपमान बताया है। मंत्री की कुर्सी पर बैठ गए : पहली बार सदन में जीतकर आए विधायक राजेश गर्ग एकाएक मंत्री की कुर्सी पर जाकर बैठ गए। इस पर भाजपा के नेताओं ने हंगामा किया। मामले में विधायक ने बताया कि वे एजेंडे की जानकारी के लिए वहां गए थे और हम अपने मंत्री के पास किसी भी प्रकार की जानकारी के लिए जा सकते हैं। फिर बजी तालियां : सदन में शुक्रवार को अध्यक्ष पद के लिए चुनाव हुआ।

अध्यक्ष पद के लिए आए प्रस्तावों के बाद पहले ही प्रस्ताव में नए अध्यक्ष को चुन लिया गया । इसके बाद एक बार फिर से दर्शक दीर्घा से तालियां बजी। इस पर विपक्ष के नेताओं ने फिर सवाल उठाया। मुख्य सचेतक बने जगदीप सिंह दिल्ली विधानसभा में आप पार्टी की तरफ से विधायक जगदीप सिंह को मुख्य सचेतक नियुक्त किया गया है और भाजपा की तरफ से डॉ. हषवर्धन को विधायक दल का नेता चुना गया है। शुक्रवार को दिल्ली विधानसभा सचविालय ने इसकी अधिसूचना जारी कर दी है।

ये अधिसूचना विधानसभा सचवि पी.एन. मिश्रा के आदेशों से जारी की गई हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आप नेताओं की खिदमत में सरकारी बाबू