DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एल्डिको में ढही टंकी की जांच अटकी

लखनऊ। वरिष्ठ संवाददाता

धन की कमी और विभाग की बदहाल स्थिति एल्डिको में ढही पानी टंकी की जांच में दो महीने से रोड़ा बनी है। अधिकारी साफ जवाब नहीं दे रहे हैं। स्थानीय लोगों में भी विभाग की ओर से जांच में की जा रही देरी से आक्रोश है। इंस्टीटय़ूट ऑफ इंजीनियरिंग एण्ड टेक्नोलॉजी (आईईटी) लखनऊ को जांच के लिए चुना गया था लेकिन विभाग ने लम्बी फीस होने के कारण अपने हाथ खींच लिए हैं।

सूत्रों के मुताबिक अब सरकारी एजेंसी से जांच कराने पर विचार किया जा रहा है। जलसंस्थान महाप्रबंधक आरपी वर्मा कहते हैं कि जांच की प्रक्रिया चल रही है। सचवि राघवेन्द्र कहते हैं जांच करेंगे, आपको बताएंगे भी जबकि विभाग के कुछ अन्य अधिकारियों के मुताबिक सरकारी एजेंसी से जांच कराने की कोशशि की जा रही है। असल में विभाग की आर्थिक तंगी की ओर से सरकार भी ध्यान नहीं दे रही है। यही वजह है कि एक पानी की टंकी गिरने जैसी घटना की जांच कराना भी विभाग के लिए मुश्किल हो रहा है।

हालत पतली इसलिए भी है क्योंकि जांच एजेंसी की ओर से अधिकारियों से मांगी गई एल्डिको पानी की टंकी का डिजाइन तक उनके उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। 90 हजार रुपए में तो केवल मिट्टी की होगी जांचआईईटी लखनऊ से जुड़े विशेषज्ञ बताते हैं कि जांच करना तो हमारा काम है लेकिन उसकी फीस जमा होती है। जांच में सबसे पहले यह देखा जाता है कि टंकी क्यों गिरी। मिट्टी खराब थी या कोई और कारण था। मिट्टी की जांच की फीस ही 90 हजार रुपए है।

सरिया मानकों के अनुसार लगाई गई थी या नहीं। कंक्रीट और मसाला कैसा प्रयोग किया गया था जांचा जाता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एल्डिको में ढही टंकी की जांच अटकी