DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ट्रक और पिकअप के बीच में फंसा बच्चा, गर्दन कटी

कानपुर। कार्यालय संवाददाता

फजलगंज में शुक्रवार की सुबह एक दर्दनाक घटना हुई। ट्रक और पिकअप के बीच में एक बच्चा फंस गया और ट्रक से निकली लोहे की पत्ती से उसकी गर्दन कटकर अलग हो गई।

बच्चों का सिर कटा शव देख इलाकाई लोग दहशत में आने के साथ गुस्सा गए। पिकअप मौके से भाग निकला। इलाकाई लोगों ने सड़क पर जाम लगा दिया। मौके पर पहुंची पुलिस ने लाठी पटककर भीड़ को तितर बितर किया। उसके बाद शव को पोस्टमार्टम हाउस भिजवा दिया। ऊचुआ फजलगंज में रहने वाले रफीक अली और पत्नी बिल्लो मजदूरी करके अपने चार बच्चों का पालन पोषण करते हैं। सुबह लगभग पौने ग्यारह बजे इनका सबसे छोटा बेचा अहमद अली (9) फजलगंज डिपो के पास सतनाम धर्मकांटा के सामने सड़क किनारे लट्टू से खेल रहा था।

उसके पीछे एक ट्रक खड़ा हुआ था। उसी दौरान माल लदी एक पिकअप तेजी से वहां से गुजरी। रास्ता कम होने चालक ने ट्रक की तरफ गाड़ी को घुमा दिया। अहमद अली पिकअप की चपेट में आ गया और घूमता हुए उसकी गर्दन ट्रक से निकली एक लोहे की पत्ती से टकरा कर अलग हो गई। इलाकाई लोगों ने शोर मचाकर पिकअप को पकड़ने की कोशशि की मगर वह फजलगंज से जरीब चौकी की तरफ भाग निकला। लोगों ने गाड़ी का नम्बर नोट कर लिया।

इसके बाद अहमद के पिता को सूचना दी गई। वह भागते हुए बाहर आए तो बेटे के शव को देखकर लड़खड़ा गए। सूचना पर फजलगंज पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। तब तक लोगों का गुस्सा फूट पड़ा था। भीड़ सड़क पर उतर आई और जाम लगा दिया। पुलिस ने लाठी चटका कर भीड़ को तितर बितर कर दिया और शव को पोस्टमार्टम हाउस भिजवा दिया।

पुलिस ने भगवा दी गाड़ी

 इलाकाई लोगों ने आरोप लगाया कि समय पर सूचना देने के बावजूद पुलिस आधे घंटे बाद मौके पर पहुंची।

पुलिस के कारण पिकअप वाला भाग निकला।

एम्बुलेंस और नीली बत्ती को भी रोका

 सड़क जाम के दौरान भीड़ ने एक एम्बुलेंस को रोक लिया। एम्बुलेंस चालक ने हाथ जोड़ने के साथ ही लोगों को बताया कि मरीज की हालत गम्भीर है इसलिए अस्पताल पहुंचाना जरुरी है। इसके बाद भीड़ ने पांच मिनट बाद एम्बुलेंस को जाने दिया। उसी दौरान एक नीली बत्ती की गाड़ी का भी घेराव हुआ जिसमें एक महिला बैठी थी। महिला को देखकर भीड़ ने नीली बत्ती लगी गाड़ी को भी जाने दिया।

बहुत तेज था अहमद अली

इलाकाई लोगों से मिली जानकारी के मुताबिक अहमद की यादाश्त बहुत तेज थी। वह एक बार जो चीज देख लेता या सुन लेता था वह उसे रट जाती थी। उसकी याददाश्त को देखते हुए पिता ने तय किया था कि कैसे भी हो उसे पढ़ा लिखाकर बड़ा आदमी बनायेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ट्रक और पिकअप के बीच में फंसा बच्चा, गर्दन कटी