DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

क्लू ढ़ंढती रही पुलिस, चली गई सुहैल की जान

 पडरौना। निज संवाददाता

अगवा किए गए दसवीं के छात्र की हत्या के बाद पुलिस की कार्यशैली की जमकर किरकिरी हो रही है। घटना के पहले दिन ही सूचना मिलने के बाद गंभीर न होना और फिर सिर्फ सर्विलांस के सहारे घटना के क्लू ढूंढने में आश्रित होने पर लोग पुलिस के इकबाल पर तरह-तरह के सवाल खड़े कर रहे हैं।

लोगों का यह भी कहना है कि पुलिस अगर सुहैल के खास दोस्त को भी तलाश कर ली होती तो शायद सुहैल की जान नहीं जाती। सुहैल 30 दसिंबर को दोपहर में खास दोस्त के यहां दावत पर घर से निकला था। शाम तक वह घर वापस नहीं आया। रात में पौने नौ बजे के करीब उसकी मां नजबुन निशा के मोबाइल पर किसी का काल आया। उधर से बोलने वाले व्यक्ति ने इसकी इत्तला दी कि सुहैल को किडनैप कर लिया गया है और 10 लाख रुपए फिरौती मिलने के बाद उसे मुक्त किया जाएगा।

जिसके बाद सुहैल के परिवार वाले परेशान हो गए और रात में ही इसकी सूचना कोतवाली पुलिस को दे दी। पुलिस की लापरवाही घटना के पहले दिन से ही उजागर होती गई। सुहैल के परिवारीजनों से सूचना मिलने के बाद भी पुलिस ने उसे बहुत हल्के ढंग में लिया। पुलिस यह मानकर चल रही थी कि वह अपने दोस्त के यहां ही रह गया होगा और सुबह होने पर घर वापस आ जाएगा। इस संभावना में पुलिस रात भर के लिए इस मामले को टरका दिया।

सुबह होने के बाद तक जब सुहैल वापस घर नहीं लौटा तो पुलिस कुछ सक्रिय हुई। इसके बाद सर्विलांस के सहारे जिस मोबाइल नंबर से फिरौती मांगी गई थी उसका लोकेशन पता किया जाने लगा। वह मोबाइल जब स्वीच आफ हुआ उस समय तक उसका लोकेशन पडरौना-कुबेरस्थान मार्ग पर स्थित गांगरानी चौराहा मिला था। छावनी से गांगरानी चौराहे की दूरी लगभग 8 किमी है। पुलिस अगर घटना के पहले दिन ही सक्रियता दिखाती तो सुहैल के खास दोस्त का पता चल गया होता और उसके जरिए सुहैल तक पहुंचा जा सकता था।

पुलिस की सारी उर्जा सर्विलांस से मोबाइल का लोकेशन पता करने में खपत हो गया। हालांकि शुरुआती दौर में पुलिस खास दोस्त की तलाश में कई युवकों से पूछताछ भी की थी, किन्तु कहीं से कोई सुराग न मिलने के बाद सर्विलांस के भरोसे ही पड़ी रही। आखिरकार सुहैल का शव भी कुबेरस्थान थाना क्षेत्र के ही बार्डर पर तुर्कपट्टी थाना क्षेत्र के जमुनिया गांव के समीप सरेह में गन्ने के खेत से मिला। यही घटना ही नहीं पिछले दिनों जिले में हुई अन्य घटनाओं का जिसमें पुलिस ने खुलासा किया है वे सभी खुलासे ये दर्शा रहे हैं कि पुलिस मुखबिरों की कमी से सिर्फ सर्विलांस के भरोसे रह गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:क्लू ढ़ंढती रही पुलिस, चली गई सुहैल की जान