अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रामसेतु की रक्षा को हिन्दू संगठित हों

जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती जी महाराज ने कहा कि रामसेतु की रक्षा के लिए सभी हिन्दुओं को संगठित होना होगा। उन्होंने कहा कि रामसेतु को ध्वस्त करने की जो बात चल रही है यह उचित नहीं है। स्थानीय दादीजी मंदिर सभागार में उन्होने कहा कि जिस तरह आज ताजमहल की रक्षा के लिए जितने उपाय किए जा रहे हैं उसी प्रकार रामसेतु की भी रक्षा होनी चाहिए। स्वामी जी ने बताया कि समाज की भलाई के लिए तन-मन-धन से सेवा करनी चाहिए।ड्ढr उन्होंने कहा कि देश में गौ हत्या अविलंब बंद होनी चाहिए। सरकार को भी इस विषय पर कठोर कदम उठाने चाहिए। स्वामी जी ने धर्म परिवर्तन पर भी चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि इन दिनों धर्म परिवर्तन हो रहा है उस पर भी रोक लगनी चाहिए।ड्ढr ड्ढr उन्होंने देश की एकता एव अखंडता पर खतरा बताया। उन्होंने कहा कि देश के पड़ोसी देश नेपाल में माओवादी के बढ़ते प्रभाव से हमार देश को भी खतरा है। खासकर बिहार को ज्यादा सर्तक रहने की जरूरत है। शनिवार की शाम दादीजी मंदिर में स्वामी जी की अध्यक्षता में एक बैठक हई। बैठक में पीठ परिषद के अलावा आदित्य वाहिनी एवं आनंद वाहिनी के पदाधिकारी के साथ-साथ राज्य से सभी जिलों के प्रतिनिधि उपस्थित थे।ड्ढr ड्ढr बैठक इस बात पर विशेष चर्चा हुई कि किस तरह संगठन को मजबूत कर हिन्दुत्व को बचाया जाए। पिछले 12 दिनों से स्वामी जी से संबंधित कार्यक्रम आयोजित किए गए हैं उन सभी कार्यो की समीक्षा की गई। बैठक में सर्वसम्मति से एक प्रस्ताव पारित कर बिहार सरकार द्वारा स्वामी जी को राजकीय अतिथि घोषणा करने को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एवं उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी को बधाई दी है। बैठक में आनंद वाहिनी के राष्ट्रीय महामंत्री सीमा तिवारी, बी.एन. सहाय, अमर कुमार अग्रवाल, शैलेन्द्र सिंह, अजय अग्रवाल, रामावतार अग्रवाल, भाई रणधीर, प्रभात सिंह, प्र. श्याम नारायण दूबे सहित कई लोग उपस्थित थे।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: रामसेतु की रक्षा को हिन्दू संगठित हों