DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गिरफ्तारी के 20 दिन के भीतर दर्ज होगा आरोपपत्र

दिल्ली में दर्ज होने वाले दुष्कर्म के मामलों में अब पुलिस को आरोपी की गिरफ्तारी के 20 दिनों के भीतर अदालत में आरोप पत्र दाखिल करना होगा। यदि पुलिसकर्मी ऐसा करने में असफल रहते हैं तो उन्हें वरिष्ठ अधिकारियों को इसका कारण बताना पड़ेगा। जायज कारण नहीं होने पर जांच अधिकारी पर गाज गिर सकती है।

पुलिस आयुक्त भीमसेन बस्सी ने शुक्रवार को इस संबंध में एक सर्कुलर जारी किया है। उनके अनुसार महिलाओं की सुरक्षा पुलिस के लिए सबसे अहम है। दिल्ली पुलिस एक तरफ जहां महिलाओं के साथ अपराध करने वालों को तेजी से गिरफ्तार कर रही है, वहीं अब महिलाओं को जल्द से जल्द इंसाफ दिलाने का भी प्रयास करेगी।

इसी तरह पुलिस आयुक्त ने सभी थानों के लिए यह आदेश जारी किया है। अभी आमतौर पर दुष्कर्म के मामलों में आरोपी की गिरफ्तारी के बाद आरोप पत्र दाखिल करने में तीन से छह माह तक का समय लग जाता है। लेकिन अब यदि जांच अधिकारी 20 दिन के भीतर आरोपपत्र दाखिल नहीं करता तो उसे इसका कारण संयुक्त आयुक्त को
बताना होगा।

अगर 30 दिन बीतने के बावजूद भी आरोपपत्र दाखिल नहीं हुआ तो इसकी सूचना विशेष आयुक्त (लॉ एंड ऑडर) और अपराध को देनी होगी। जांच अधिकारी को आरोप पत्र दाखिल न कर पाने का कारण पुलिस आयुक्त को भी बताना होगा। वहीं, महिलाओं के प्रति होने वाले अन्य अपराधों में भी पुलिस को जल्द से जल्द आरोपपत्र दाखिल करने के निर्देश दिए गए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गिरफ्तारी के 20 दिन के भीतर दर्ज होगा आरोपपत्र