DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टके सेर भाजी और टके सेर पानी

नए साल ने पहला काम तो ये किया कि फजीहत का नाम कांग्रेस कर दिया। दिल्ली सरकार को बिन मांगे मोहलत मिली और भरत जी राम की खड़ाऊं पहनकर राज करने लगे। सभी हनुमान कैबिनेट पद पा गए और अयोध्या छोड़कर सरयू नदी दिल्ली में बहने लगी। मंथरा और कैकेई दोनों को ही मन मारकर राजतिलक करना पड़ा। अब विधानसभा तक मैट्रो दौड़ेगी। वीआईपी रिक्शे चलेंगे। कमांडो और अन्य सुरक्षाकर्मी मुफ्त की रोटी तोड़ेंगे। दिल्ली को ये दिन भी देखने थे। सफाई कर्मचारी अब झाड़ वंदना करने लगे हैं। धोबीघाट वालों को विभीषण ढूंढे नहीं मिल रहा। रावण के अब नौ सिर रह गये हैं दसवां अभी अभी कटा है। रामजी के राजतिलक को कन्फर्म करने के उत्सव में सभी मान्यवर मैट्रो, रिक्शा, स्कूटर और पैदल चले आए। सरकारी ड्राइवर घर बैठे मजे से ताश खेल रहे हैं। ये छींका बिल्ली के भाग्य से नहीं दिल्ली के भाग्य से टूटा है।

देखना अब दिल्ली का सारा फालतू पानी यमुना में फेंक दिया जाएगा। करंट हो न हो बिजली आधी रहेगी। उत्तर प्रदेश की तरह दिल्ली में भी कोई ठंड से नहीं मरेगा। अगर मरा भी तो उसे सरकारी मौत नहीं माना जाएगा। दिल्ली में अब किसी मुन्नी को बदनाम नहीं होने दिया जाएगा और शीला की जवानी नामक गीत प्रतिबंधित होगा। अनिल कपूर नायक फिल्म का अगला भाग बनाएंगे जिसमें अरविंद केजरीवाल मफलर बांधकर, टोपी लगाकर मुख्य भूमिका करेंगे। अनिल कपूर कांग्रेस की भूमिका में होंगे। फिल्म में एक आइटम सांग मल्लिका शेरावत करेंगी मगर वे पूरे कपड़े पहने होंगी, ये फैसला ताजे मंत्रिमंडल ने लिया है। बिना अनुमति के अब दुराचार-बलात्कार नहीं हो सकेगा। बियरबारों और शराब की दुकानों में चरणामृत बंटेगा। सुना है स्कूलों में पढ़ाई भी होगी। अस्पतालों में मरीजों से ज्यादा डॉक्टर दिखेंगे। सुना ये भी है कि इस बार गणतंत्र दिवस की झांकी में ट्रक के ऊपर एक खाली जमीन दिखाई जाएगी। एक कोने में झाड़ू पड़ा होगा। कोई पूछेगा कि खाली ज़मीन का क्या मतलब? जवाब मिलेगा- हजूर दिल्ली बुहारी जा चुकी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:टके सेर भाजी और टके सेर पानी