DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मां बेटे हुए मुक्त वेश्यावृत्ति कराने के आरोप से

दिल्ली की एक अदालत ने एक महिला और उसके बेटे को अपनी एक नाबालिग रिश्तेदार को वेश्यावृत्ति के लिए बाध्य करने के आरोप से मुक्त कर दिया है क्योंकि पुलिस पीडित को पेश नहीं कर सकी।
     
अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश संजीव कुमार ने महिला और उसके बेटे को बलात्कार के लिए उकसाने के आरोप से भी बरी कर दिया। दोनों को पीडि़त के पिता के खिलाफ कानून कार्रवाई को धीमा करने के आरोप से भी मुक्त कर दिया गया। पीडि़त का पिता भी इस मामले में आरोपी था। सुनवाई के दौरान ही उसकी मौत हो गयी थी।
     
सुनवाई के दौरान कई मौके दिए जाने के बाद भी अभियोजन लड़की को पेश करने में नाकाम रहा। अपने साथ बलात्कार, अवैध रूप से बंधक बनाए जाने और जबरन देह व्यापार कराने के इस मामले में लड़की एकमात्र चश्मदीद गवाह थी। अदालत ने कहा कि उसकी गवाही के अभाव में आरोपी को दोषी साबित करना उचित नहीं होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मां बेटे हुए मुक्त वेश्यावृत्ति कराने के आरोप से