DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छठी पास किसान ने बनायी गाजर खोदने की मशीन

हरियाणा के हिसार जिले में गाजर खुदाई में मजदूरों की कमी से परेशान किसानों के लिए खुशखबरी है कि अब उन्हें गाजर, मूली तथा दूसरी सब्जियों की खुदाई के लिए अधिक समय तथा धन नहीं खर्च करना पडेगा।

इसके साथ ही के खेत में पर्याप्त नमी भी बरकार रहेगी। इससे किसानों को गेहूं की पैदावार भी पहले की तुलना में अधिक प्राप्त हो सकेगी।

जिले के बाडे-पट्टी गांव के महाबीर प्रसाद ने गाजर खोदने की एक ऐसी मशीन बनाई है जो दो घांटे में एक एकड़ गाजर के खेत की खुदाई कर देगी। इससे किसान को जहां गाजर बाजार में पहुंचाने के लिए पर्याप्त समय मिल जाएगा। इससे पहले गाजर की खुदाई का काम कड़ाके की ठंड में होने के कारण किसानों को खुदाई के लिए समय पर मजदूर नहीं मिलते थे।

मशीनों से प्यार करने वाले महाबीर प्रसाद जांगडा ने बचपन में कक्षा छठी पास करते ही पढा़ई छोड़ दी थी। उसके बाद से ही वे लगातार आविष्कार दर आविष्कार करते आ रहें। खेती में काम आने वाले औजार बनाने व उनमें सुधार करने में उनकी अलग पहचान है।

कपास बिजाई की मशीन, गाजर धोने की मशीन सहित कई अन्य मशीन बना चुके जांगडा का अगला लक्ष्य गाजर बिजाई की मशीन तैयार करना है। नाम मात्र लागत कम, पढे लिखे और गांव के लोगों में इंजीनियर के नाम से चर्चित महाबीर प्रसाद जांगडा के अनुसार गाजर खोदने की इस मशीन पर करीब 18 हजार रुपए की लागत आई है। वे कहते हैं यदि अधिक संख्या में ये मशीने बनाई जाएं तो यह लागत घाटकर और भी कम हो जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:छठी पास किसान ने बनायी गाजर खोदने की मशीन