अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सत्ता मिली तो ईसाइयों कोआरक्षण नहीं : भाजपा

चुनावी जंग’ में चलने का एलान कर चुकी भाजपा ने अब मुद्दों को धार देना शुरू कर दिया है। शनिवार को यहां शुरू हुई प्रदेश भाजपा कार्यसमिति की बैठक में पार्टी ने यह संदेश दिया है कि वह राज्य सरकार और इसके घटक दलों की नाकामियों को मुद्दा तो बनायेगी ही, हिन्दुत्व के पुराने एजेंडों को भी मजबूती से उठायेगी।ड्ढr पार्टी के राजनीतिक प्रस्ताव में कहा गया है कि सत्ता में आते ही धर्मातरण कर ईसाई बने लोगों को आरक्षण के लाभ से वंचित करने के लिए बिल लाया जायेगा। भाजपा इस मामले में सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन करायेगी। पार्टी ने कार्यकर्ताओं को चुनाव तैयारियों में जुट जाने को भी कहा है। इसका उद्घाटन प्रदेश अध्यक्ष पीएन सिंह ने किया। बैठक में हिस्सा लेने के लिए राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह भी शनिवार रात रांची पहुंचे। वे रविवार को समापन सत्र में कार्यकर्ताओं को संबोधित करंगे। बैठक में पास राजनीतिक प्रस्ताव में पार्टी ने राज्य की दुर्दशा के लिए कांग्रेस, राजद-कांग्रेस को जिम्मेवार ठहराया है। इसमें कहा गया है कि सत्ता ऐसे लोगों के हाथों में है, जो अलग झारखंड राज्य के विरोधी रहे हैं। ये लोग मधु कोड़ा को कठपुतली बना परदे के पीछे से सत्ता का संचालन कर रहे हैं, लेकिन उसके भ्रष्टाचार और नाकामियों की जिम्मेवारी नहीं लेना चाहते। कांग्रेस अपना चेहरा बचाने के लिए समय-समय पर हाई वोल्टेा ड्रामा कर रही है। उद्घाटन सत्र के बाद जिलाध्यक्षों से जिलों में चलाये गये आंदोलनों की जानकारी ली गयी। उसके बाद 12 दिन के सीएम हाउस घेराव में जिलों की भूमिका व भाजयुमो की साइकिल यात्रा की सफलता की प्रशंसा की गयी। पार्टी के राष्ट्रीय प्रशिक्षक रामप्यार पांडे ने संगठन की मजबूती के लिए प्रति बूथ 25 युवकों की टीम बनाने और उसमें से एक को अजरुन बनाने पर जोर दिया। इसके अलावा नेताओं से सुझाव भी लिये गये।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सत्ता मिली तो ईसाइयों कोआरक्षण नहीं : भाजपा