DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कॉर्मशियल वाहनों में स्पीड गवर्नर जरूरी

बल्लभगढ़। कॉर्मशियल वाहनों में स्पीड गवर्नर को लेकर परवहिन विभाग बेहद सख्त हो गया है। अब पासिंग के दौरान अधिकारी स्वयं मौके पर जाकर गाड़ी में लगे गवर्नर का बिल देखेंगे और गवर्नर पर गाड़ी का रजिस्ट्रेशन नंबर की भी जांच होगी।

यदि किसी गाड़ी में स्पीड गवर्नर को लेकर गडबड़ी पाई गई तो उसकी पासिंग रिजेक्ट की जाएगी। इसके बावजूद गाड़ी रूट पर चली तो उसके खिलाफ चालान होगा। गाड़ी का रजिस्ट्रेशन भी रद्द हो सकता है और ड्राइविंग लाइसेंस भी सस्पेंड हो सकता है। परवहिन विभाग द्वारा अपनाई गई सख्ती को लेकर गुरुवार को पासिंग के दौरान आरटीए महावीर प्रसाद स्वयं मौके पर मौजूद थे। इस दौरान उन्होंने करीब 50 गाड़ियों के स्पीड गवर्नर खुद चेक किए। इस दौरान करीब 25 गाडिम्यां ऐसी पकड़ी गई, जिसमें से कुछ गाड़ियों में स्पीड गवर्नर नहीं थे और कुछ में थे तो उनके बिल और गाडृी नंबर नहीं खुदा था।

इस कारण आरटीए ने 25 गाडियों की पासिंग रद्द कर दी गई। इस दौरान आरटीए ने बताया कि रद्द गाडिम्यां रूट पर चलती नजर आई तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि पिछले कुछ समय से शिकायत मिल रही थी कि कुछ गाड़ी मालिक अपनी एक गाड़ी में स्पीड गवर्नर लगा लेते हैं और अन्य गाड़ियों में स्पीड गवर्नर वही उतार-उतार कर विभागीय अधिकारियों को दिखाकर गाड़ी पास करा ली जाती है। ऐसे में गाड़ियों में स्पीड गवर्नर नहीं होने से खतरा बना रहता है।

इस कारण एक बार फिर सख्ती से गाड़ियों में लगे स्पीड गवर्नर की जांच शुरू कर दी गई है। आरटीए महावीर प्रसाद ने दावा किया है कि केवल वहीं गाडी पास होंगी, जिनमें स्पीड गवर्नर लगा होगा। यह आदेश निचले अधिकारियों को भी सख्त तरीके से दे दिए गए है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कॉर्मशियल वाहनों में स्पीड गवर्नर जरूरी