DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हर घर में बीमार, हॉस्पिटल फुल

राजधानी मौसमी बीमारियों की चपेट में है। बारिश और मौसम के उतार-चढ़ाव से वायरल फीवर, डायरिया, मलेरिया सहित अन्य मौसमी बीमारियों से त्रस्त मरीज अस्पताल पहुंच रहे हैं।ड्ढr सेवा सदन के मानद सचिव ओम प्रकाश सर्राफ ने बताया कि अस्पताल में बेड फुल हो गया है। हालात यह है कि अस्पताल में बेड की कमी हो गयी है। बेड खाली होने पर ही मरीजों को भरती लिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि चार बेड का कैजुअल्टी वार्ड बनाया गया है। इसमें मरीज को रखकर बेड खाली पर उन्हें जगह दिया जा रहा है। राज अस्पताल में जनरल बेड ठसाठस भरा है। स्त्री रोग, सर्जरी आदि विभागों में ही बेड खाली है। रिम्स में ऐसे दर्जनों रोगी प्रतिदिन आउटडोर में पहुंच रहे हैं। इनडोर में भी ऐसे मरीज काफी संख्या में भरती हैं। रिम्स के मेडिसीन विभाग में 1मरीा भरती हैं। शिशु रोग विभाग की स्थिति यह है कि बच्चों को फ्लोर पर रखा जा रहा है। रानी चिल्ड्रेन हॉस्पिटल में बच्चों के प्रमुख इस अस्पताल में डेढ़ दर्जन बच्चे वायरल फीवर से पीड़ित हैं। अस्पताल के डॉक्टरों के मुताबिक वायरल फीवर से पीड़ित बच्चे काफी संख्या में पहुंच रहे हैं। गंभीर रूप से बीमार बच्चों को ही भरती लिया जा रहा है। गुरुनानक अस्पताल: गुरुनानक अस्पताल में 143 बेड हैं। यहां भी मरीज ठसाठस भरे हुए हैं। सिर्फ आइसीसीयू वार्ड में ही बेड खाली है। अंजुमन इस्लामिया में मौसमी बुखार से पीड़ित करीब 50 लोग भर्ती हैं।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: हर घर में बीमार, हॉस्पिटल फुल